ईरान मुद्दे पर खाड़ी देशों को आश्वासन

बराक़ ओबामा खाड़ी देशों के नेता के साथ बातचीत करते हुए. इमेज कॉपीरइट EPA

अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कैंप डेविड में हुए अमरीका और छह खाड़ी देशों के शिखर सम्मेलन में कहा है कि वह बाहरी हमले की स्थिति में खाड़ी-अरब देशों का समर्थन करेंगे.

ईरान के साथ समझौते को लेकर खाड़ी देशों के संदेह को दूर करने की कोशिश में ओबामा ने साफ़ कर दिया कि वह अपने सहयोगियों की मदद करने के लिए सेना का इस्तेमाल भी कर सकते हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty

उन्होंने कहा कि अमरीका क्षेत्रीय स्तर पर मिसाइल रक्षा प्रणाली विकसित करने में इन देशों की मदद करेगा साथ ही हथियारों के स्थानांतरण की रफ़्तार भी तेज़ करेगा.

इसके अलावा अमरीका विशेष बलों और सीमा नियंत्रण इकाइयों को प्रशिक्षण भी देगा.

कैसी आशंका

खाड़ी देशों को आशंका है कि अमरीका और ईरान के बीच संभावित परमाणु समझौते से तेहरान इतनी बेहतर स्थिति में होगा कि वह मध्यपूर्व को अस्थिर करने की कोशिश कर सकता है.

इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption सऊदी अरब और अमरीका के अन्य सहयोगी खाड़ी देश ईरान के साथ क़रार को लेकर हैं चिंतित.

यह सम्मेलन दरअसल उस आशंका को ही दूर करने के लिए बुलाया गया था.

ओबामा ने कहा है कि खाड़ी देशों के प्रतिनिधिमंडल ने उनसे यह चिंता जताई है कि ईरान प्रतिबंधों से मिली राहत की राशि का इस्तेमाल मध्यपूर्व को अस्थिर करने के अभियान में लगा सकता है.

एक संयुक्त बयान में खाड़ी देशों ने कहा कि वे इस बात पर सहमत हैं कि परमाणु कार्यक्रम को लेकर ईरान के साथ प्रामाणिक क़रार उनके अपने सुरक्षा हित में था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार