'चरमपंथियों से मिले लोगों के साथ कोई नरमी नहीं'

टोनी एबॉट इमेज कॉपीरइट Getty

ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री टोबी एबॉट ने चेतावनी दी है कि चरमपंथी गतिविधियों में शामिल होने के लिए यदि कोई नागरिक विदेश जाता है और फिर वापस आने की कोशिश करता है तो उसके साथ किसी तरह की नरमी नहीं बरती जाएगी.

टोनी एबॉट ने ये बात उन ख़बरों के जबाव में कही जिनमें दावा किया गया है कि ऑस्ट्रेलिया के तीन नागरिक इस्लामिक स्टेट की ओर से लड़ने के लिए सीरिया गए थे और अब वापस आने की फिराक में हैं.

इमेज कॉपीरइट Reuters

उन्होंने कहा कि जो ऐसा कोई भी व्यक्ति वापस आने की कोशिश करेगा, उसे गिरफ्तार करके सज़ा दी जाएगी और जेल में बंद कर दिया जाएगा.

उन्होंने कहा, "अपराध, अपराध होता है."

चरमपंथी समूह इस्लामिक स्टेट ऑस्ट्रेलिया में बच्चों और वयस्कों को भर्ती करने की कोशिश करता रहा है. सरकार के लिए इसे एक बड़ी चुनौती के तौर पर देखा जा रहा है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार