चीनः जेल देख लो कहीं रहना ना पड़ जाए!

चीन जेल इमेज कॉपीरइट AFP

पूर्वी चीन के एक शहर में भ्रष्टाचार से दूर रहने की चेतावनी देने के लिए अधिकारियों को जेल का दौरा कराया गया.

70 अधिकारियों और उनके परिवारों को 15 मई को शियान शहर की जेल दिखाई गई.

वर्ष 2012 में शी जिनपिंग के राष्ट्रपति बनने के बाद चीन ने भ्रष्टाचार पर सख़्त क़दम उठाने शुरू किए थे.

तब से हज़ारों अधिकारियों के ख़िलाफ़ जाँच की जा चुकी है और कई को रिश्वत लेने और पद के दुरुपयोग के आरोपों में जेल भेजा जा चुका है.

देश की भ्रष्टाचार निरोधक एजेंसी, 'द सेंट्रल कमीशन ऑफ़ डिसिप्लिन ऐंड इंस्पेक्शन' ने अपने न्यूज़लेटर में जेल दर्शन का ऐलान किया था.

अनुभव से होगा डर

न्यूज़लेटर में कहा गया था कि ऐसा अधिकारियों के जेल की ऊँची दीवारों के पीछे के जीवन को दिखाने के लिए किया जा रहा है.

जारी की गई तस्वीरों में अधिकारियों और उनके परिजनों को भ्रष्टाचार के आरोप में जेल गए अपने पूर्व सहकर्मियों से मिलते हुए दिखाया गया है.

उन्हें जेल में बंद अधिकारियों की तस्वीरों और अनुभवों की प्रदर्शनी भी दिखाई गई.

इमेज कॉपीरइट EPA
Image caption चीन के सुरक्षा प्रमुख झाऊ योंगकांग भ्रष्टाचार के आरोप में जेल में है.

अधिकारियों को भ्रष्टाचार के आरोप में जेल में बंद अधिकारियों की रिकॉर्ड की गईं गवाहियां भी सुनवाई गईं.

तोहफ़े पर मनाही

चीन ने भ्रष्टाचार के ख़िलाफ़ व्यापक अभियान चला रखा है. प्रशासन ने अधिकारियों से ऐश आराम का जीवन छोड़ने और महंगे तोहफ़े ना लेने के लिए कहा है.

स्थानीय मीडिया के मुताबिक अब तक कई हज़ार अधिकारियों शिकंजे में आ चुके हैं जिनमें छोटे अधिकारियों से लेकर ऊँचे ओहदेदार भी हैं.

चीन के पूर्व सुरक्षा प्रमुख झाऊ योंगकांग भी गिरफ़्तार किए जा चुके हैं.

हालांकि आलोचकों का कहना है कि व्यवस्था में पूरा बदलाव लाकर ही भ्रष्टाचार से निपटा जा सकता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार