काबुल धमाके की ज़िम्मेदारी तालिबान ने ली

हमले के बाद मोर्चा संभाले जवान इमेज कॉपीरइट EPA

अफ़ग़ानिस्तान की राजधानी काबुल में कई धमाके हुए हैं और भारी गोलीबारी हुई है.

वज़ीर अकबर ख़ान इलाके में कम से कम एक दर्ज़न धमाके हुए हैं. इस इलाके में कई दूतावास और वरिष्ठ सरकारी अधिकारियों के निवास हैं.

सरकार के एक मंत्री का कहना है कि लड़ाई ख़त्म हो गई है. चारों हमलावर मारे गए हैं. तालिबान ने इस हमले की ज़िम्मेदारी ली है.

गेस्ट हाउस पर निशाना

इमेज कॉपीरइट Reuters

काबुल पुलिस के एक प्रवक्ता ने समाचार एजेंसी एएफ़पी से कहा कि लगता है कि हमला एक गेस्ट हाउस को निशाना बनाकर किया गया.

काबुल में मौजूद बीबीसी संवाददाता संजॉय मजूमदार का कहना है कि "उन्होंने लगातार धमाके सुने, गोलियों की आवाज़ें सुनीं और ग्रेनेड की भी आवाज़ थी."

इमेज कॉपीरइट EPA

एसोसिएटेड प्रेस का कहना है कि हमला स्थानीय समय के मुताबिक रात करीब पौने ग्यारह बजे शुरू हुआ और इसके बाद पुलिस वाले स्ट्रीट लाइट तोड़ते देखे गए ताकि उनके आने-जाने के बारे में किसी को पता न चले.

इमेज कॉपीरइट AP

कुछ ही दिन पहलेे तालिबान चरमपंथियों ने काबुल में एक गेस्ट हाउस पर हमला किया था. हमले में 14 लोग मारे गए थे जिनमें कुछ विदेशी भी थे. इस हमले की ज़िम्मेदारी तालिबान ने ली थी.

रब्बानी परिवार का गेस्ट हाउस

बीती रात जिस गेस्ट हाउस पर हमला हुआ है, उसके बारे में अफ़ग़ानिस्तान के आंतरिक मामलों के मंत्रालय ने बीबीसी को बताया है कि चरमपंथियों ने जिस गेस्ट हाउस पर हमला किया है, उसका नाम पहले हीतल गेस्ट हाउस हुआ करता है.

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption कुछ दिन पहले काबुल के एक गेस्ट हाउस पर हुए हमले में 14 लोग मारे गए थे.

तालिबान ने दिसम्बर 2009 में भी इस गेस्ट हाउस पर हमला किया था अब इस गेस्ट हाउस को रब्बानी गेस्टहाउस के नाम से जाना जाता है.

ये गेस्ट हाउस रब्बानी परिवार का है. रब्बानी परिवार में अफ़ग़ानिस्तान के मौजूदा विदेश मंत्री सलाहुद्दीन रब्बानी और देश के पूर्व राष्ट्रपति बुरहानुद्दीन रब्बानी शामिल हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार