रोमानिया की छुक छुक करती गाड़ी

train

गर्मी की छुट्टी और ट्रेन का नाता पुराना है और आज भी इन दोनों का साथ बना हुआ है. लेकिन कुछ सफर ऐसे होते हैं जो आगे जाने की बजाये पीछे ले जाते हैं.

ऐसा ही कुछ हुआ हमारे साथ रोमानिया के एक शहर मारामरुश में जो लकड़ी और पानी के लिए जाना जाता है.

यहाँ का एक क़स्बा है विश्येद् सुस, जहाँ लकड़ी का व्यापार होता है. इस क़स्बे का सबसे बड़ा आकर्षण है लॉग ट्रेन, जो स्माल गेज यानी छोटी लाइन से भी छोटी लाइन वाली ट्रेन है जिसको जंगल से लकड़ी लाने के लिए बनाया गया था.

भाप वाले इंजन वाली इस ट्रेन को चलाने के लिए ईंधन के रूप में लकड़ी का ही प्रयोग किया जाता है.

ये रेलवे लाइन लगभग चालीस किलोमीटर जंगल के अंदर तक जाती है. इस ट्रेन के प्रति पर्यटक ज़्यादा आकर्षित होते हैं.

लकड़ी काटने और बेचने वाली कंपनियां अब पर्यटन उद्योग में आ गई हैं. इसकी लोकप्रियता का आलम ये है कि छुट्टी के दिन इस ट्रेन में जगह नहीं मिलती

इस ट्रेन को देख कर भारत की टॉय ट्रेन यानी खिलौना ट्रेन याद आ गई जो भारत मे कालका से शिमला तक चलती है.

बस फर्क इतना है कि ये ट्रेन दोनों तरफ से खुली हुयी थी ताकि पर्यटक आसपास के नज़ारों का आनंद ले सकें. ट्रेन की पटरी के एक तरफ पहाड़ है तो दूसरी तरफ नदी है.

यहाँ के अधिकारियों के अनुसार यूरोप में इसके अलावा कहीं भी भाप वाले इंजन नहीं चलते.

ट्रेन के पीछे वाले डब्बे में में एक रेस्तरां भी है जहाँ चाय, काफी, बीयर इत्यादि मिलते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं. )

संबंधित समाचार