आईएस का बढ़ना दुनिया की नाकामी: इराक़

शिया वालंटियर इमेज कॉपीरइट AP
Image caption इराक में इस्लामिक स्टेट से लड़ने में शिया वालंटियर अहम साबित हुए हैं

इराक़ के प्रधानमंत्री हैदर अल अबादी ने कहा है कि उनके देश में इस्लामिक स्टेट के चरमपंथियों का लगातार आगे बढ़ना पूरी दुनिया की नाकामी है.

उन्होंने कहा कि रूस और ईरान पर लगी पाबंदियों की वजह से इराक़ के लिए हथियार ख़रीदना मुश्किल हो गया है और उसे 'न के बराबर हथियार' मिले हैं.

दुनिया के 20 देशों के नेता इस्लामिक स्टेट से निपटने की रणनीति पर विचार के लिए फ्रांस की राजधानी पेरिस में बैठक कर रहे हैं, लेकिन रूस, ईरान और सीरिया इसमें शामिल नहीं हैं.

अमरीकी हवाई हमलों के बावजूद इस्लामिक स्टेट ने हाल के दिनों इराक़ में रमादी और सीरिया में पल्माइरा और तदमुर जैसे नए इलाकों पर नियंत्रण किया है.

इराक़ के प्रधानमंत्री ने कहा कि उन्हें इस्लामिक स्टेट को रोकने के लिए दुनिया से पर्याप्त मदद नहीं मिल रही है.

उन्होंने कहा, "हवाई मदद काफ़ी नहीं हैं."

पेरिस में मंथन

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption इराक के प्रधानमंत्री के मुताबिक उनकी सेना के पास आईएस से लड़ने को पर्याप्त हथियार नहीं हैं

पेरिस में जुटे नेताओं ने कहा कि वो इस्लामिक स्टेट के क़ब्ज़े वाले शहरों पर दोबारा नियंत्रण हासिल करने पर ध्यान देंगे और चरमपंथियों के धन के स्रोतों और नए लड़ाकों की भर्ती को भी रोकने का प्रयास करेंगे.

अमरीकी विदेश मंत्री जॉन केरी चोटिल होने की वजह से बैठक में हिस्सा नहीं ले रहे हैं.

पेरिस में हो रही बैठक इराक़ के अनबार प्रांत के पुलिस बेस पर इस्लामिक स्टेट के आत्मघाती हमले के एक दिन बाद हो रही है, जिसमें 45 लोग मारे गए थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार