अमरीकी जासूसी क्षमता पर लगी लगाम

राष्ट्रीय जाएंच एजेंसी एनएसए इमेज कॉपीरइट Reuters

अमरीकी सेनेट ने ख़ुफ़िया एजेंसियों के फ़ोन डाटा इकट्ठा करने की क्षमताओं को सीमित करने के पक्ष में फ़ैसला लिया है.

11 सितंबर 2001 को हुए हमले के बाद से अमरीका में फ़ोन डाटा इकट्ठा करने की नीति लागू थी.

'द यूएसए फ़्रीडम एक्ट' के तहत सरकार को डाटा इकट्ठा करने की अनुमति तो होगी लेकिन कुछ बाध्यताएं भी लागू होंगी.

द पेट्रियट एक्ट का स्थान लेने वाले इस नए क़ानून को राष्ट्रपति बराक ओबामा का समर्थन प्राप्त है.

ओबामा ने इसे चरमपंथ से लड़ने के लिए ज़रूरी बताया है.

इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption एडवर्ड स्नोडेन ने अमरीका के जासूसी कार्यक्रम को सार्वजनिक किया था.

ओबामा ने मंगलवार को कहा कि वे बिल पर हस्ताक्षर कर इसे क़ानून बना देंगे.

यह नया क़ानून 2001 हमलों के बाद से लागू राष्ट्रीय सुरक्षा नीति को भी ख़त्म कर देगा.

स्नोडेन ने किया ख़ुलासा

नया क़ानून राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी (एनएसए) के आम अमरीकी नागरिकों का फ़ोन डाटा इकट्ठा करने के ख़ुफ़िया कार्यक्रम का स्थान लेगा.

एनएसए के पूर्व कर्मचारी एडवर्ड स्नोडेन ने अमरीका के ख़ुफ़िया कार्यक्रम के बारे में जानकारी सार्वजनिक की थी.

इसके बाद अमरीकी सरकार को जनता के ग़ुस्से का सामना करना पड़ा था.

इमेज कॉपीरइट AFP

कोर्ट का आदेश ज़रूरी

पहले एनएसए को फ़ोन कंपनियों से सभी नागरिकों का फ़ोन डाटा एक साथ मिल जाता था लेकिन अब ऐसा करने के लिए एनएसए को पहले अदालत से आदेश लेना होगा.

साथ ही अब डाटा सरकारी सर्वरों के बजाए फ़ोन और इंटरनेट कंपनियों के सर्वरों पर ही रखा जाएगा.

अब एजेंसी सभी लोगों का डाटा एकसाथ माँगने के बजाए चयनित लोगों या अकाउंटों का ही डाटा प्राप्त कर सकेगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार