वो 9 फ़ौजी वाहन जो आप ख़रीद सकते हैं

इमेज कॉपीरइट Auctions America

सेना के वाहन जब सड़क पर या जंग के मैदान में दिखते हैं तो इनकी पावर, विकट स्थितियों में आगे बढ़ने की क्षमताओं को देखकर हैरानी होती है. लेकिन इन में से कई ऐसे हैं जो आम नागरिक ख़रीद कर इस्तेमाल कर सकते हैं.

वर्ष 1944 में विलिस ने अमरीकी सेना के एक चौथाई टन वज़नी जीप को आम लोगों के लिए बनाने का सोचा. इसका पहला मॉडल जीप खरीदने के इच्छुक लोगों के लिए सीजे-2ए जुलाई, 1945 में उपलब्ध हुआ.

इसकी कामयाबी ने दूसरे सैन्य वाहनों के सिविल वर्जन बनाने का रास्ता खोल दिया. इसमें लैंड रोवर 1 (1948), फॉक्सवैगन टाइप 181 थिंग (1968), और जनरल मोटर्स की हमर एच 1 (1992) जैसे शानदार वाहन शामिल थे.

इन वाहनों की काफी प्रतिष्ठा थी और घूमने फिरने के शौकीन और सेलिब्रेटी लोगों में ये ख़ासे लोकप्रिय हुए.

पेश हैं ऐसे बेहतरीन 10 सैन्य वाहन जो आप खरीद सकते हैं.

1. डक एम्फ़ीबियस ट्रक

इमेज कॉपीरइट Auctions America

अमरीका में विलिस और फ़ोर्ड की मूल जीप की तरह ही छह चक्कों वाले डीयूकेडब्ल्यू ट्रक का इस्तेमाल द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान हुआ था.

इसके बारे में ज्यादा जानकारी इनके नाम के अक्षर से ही मिल जाती है. डी- 1942 में बना हुआ. यू- यूटिलिटी ट्रक. के- फ्रंट व्हील ड्राइव. डब्ल्यू- रियर व्हील ड्राइव. डीयूकेडब्ल्यू को डक नाम से भी जाना जाता था. 92 हॉर्सपावर के छह सिलिंडर का इंजन 6804 किलोमीटर वज़न को खींच सकता था.

हालांकि इसकी स्पीड कम थी. लेकिन इससे लगातार काम लेना संभव है. युद्धरत जीपों की तरह ये बुलेट प्रूफ़ गाड़ी ही थी. 1942 से 1945 के बीच 21 हजार डक जीपें बनाई गईं हैं. बोस्टन और लंदन में ये जीप नज़र आती है.

अमरीका के शिकागो स्थित डीयूकेडब्ल्यू जैसी कई कंपनियां डक की सर्विस मुहैया कराती हैं. 80 साल पुरानी ये गाड़ी सड़क और पानी में चलाई जा सकती है. तस्वीर में दिख रही गाड़ी की नीमाली 2014 में 78,775 डॉलर में हुई थी.

2. जीप स्टॉफ़ कार कांसेप्ट

इमेज कॉपीरइट Fiat Group

अमरीका में हर साल होने वाली ईस्टर जीप सफ़ारी में हजारों युवा हिस्सा लेते हैं. एक सप्ताह चलने वाली इस जीप सफ़ारी के दौरान जीप डिजाइनरों और इंजीनियरों के सामने बेहतरीन प्रदर्शन की चुनौती होती है.

सैन्य स्टॉफ़ कार उन सात जीपों में है जिनकी झलक इस साल की जीप सफ़ारी के दौरान देखने को मिलेगी. सफ़ारी में लांच होने वाली ये 49वीं जीप होगी.

ये जीप रैंगलर अनलिमिटेड पर आधारित है. इसकी खासियत खुला फेंडर और लो-बैक बेंच सीट है जिसका इस्तेमाल द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान होता है. स्टील बीम फ्रंट और रियर बंपर जीप जे8 सैन्य ट्रक से अपनाया गया है. इसको पावर रैंगलर 3.6 लीटर गैसोलिन वी-6 इंजन से मिलेगा.

वैसे इस जीप में एक कूलर बॉक्स भी है, जिसमें आप 85 बोतलें और कैन एक साथ रख सकते हैं. इसकी कीमत बताई नहीं गई है, लेकिन रैंगलर अनलिमिटेड की कीमत 40,990 डॉलर थी.

3. रेनॉ शेरपा

इमेज कॉपीरइट Renault Trucks

फ्रांस की रेनॉ की इस जीप का इस्तेमाल फ्रांसीसी और नेटो सैनिक तो करते ही हैं, साथ ही इसे आम लोग भी डकार रैली के दौरान ख़ूब इस्तेमाल करते हैं. रुस, अफ्रीका और मध्य पूर्व के देशों में भी यह मांग पर उपलब्ध है.

इसमें 4.76 लीटर का चार सिलिंडरों वाला डीज़ल इंजन इस्तेमाल किया जाता है. सिक्स-स्पीड ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन के ज़रिए सभी चारों चक्कों का टॉर्क (घूमने की क्षमता) भी बहुत ज़्यादा है. इसकी अनुमानित कीमत 2.72 लाख डॉलर है.

4.गैज़ टाइगर

रुस की गैज़ टाइगर जीप अमरीकी हमर जैसी दिखती है. लेकिन यह महज़ संयोग भर है. इसका इंजन 5.9 लीटर डीज़ल का होता है, जो सिक्स स्पीड मैनुएल ट्रांसमिशन को हासिल कर सकता है.

इमेज कॉपीरइट GAZ Group

आम लागों के लिए बने टाइगर को थोड़ा आरामदायक बनाया गया है. चमड़े के सामान का इस्तेमाल किया जाता, एयरकंडीशनर और ऑडियो सिस्टम भी उपलब्ध होता है.

इसे खरीदना ना तो आसान है और ना ही सस्ता. इसके लिए रुस में आपको 1.1 लाख डॉलर खर्च करना होगा.

5. मर्सिडीज-बेंज़ जी 63 एएमजी

मर्सिडीज के इस सैन्य वाहन को 30 साल के बाद रिवाइज करके आम लोगों के जीप में तब्दी किया गया है. स्टैंडर्ड जी63 एमजी 6 गुना 6 पैक में दो टर्बो 5.5 लीटर वी8 इंजन का इस्तेमाल किया गया है.

इमेज कॉपीरइट Daimler

यह इंजन जेट्रो ट्रक के इंजन जैसा है. हालांकि इस वाहन को उत्तरी अमरीका या फिर दाएं हाथ ड्राइव वाले देश में चलाने की कानूनी मान्यता नहीं मिलेगी. यही वजह है कि मर्सिडीज़ ने इसका उत्पादन बेहद सीमित संख्या में करने की बात कही है.

इसकी कीमत जर्मनी में 5.23 लाख डॉलर के करीब होगी.

6. पारामाउंट मैरॉडर

इमेज कॉपीरइट Paramount Group

दक्षिण अफ्रीका का ये जीप दस टन वज़नी है लेकिन टैंक को चुनौती देने की ताकत रखती है.

इसकी बॉडी एयरक्राफ्ट में इस्तेमाल की जाने वाली मोनोकोक से बनी है.

इस पर फायरिंग का कोई असर नहीं हो सकता. टॉप गीयर के रिचर्ड हैमंड के मुताबिक इस वाहन का इस्तेमाल शहरी सड़कों पर हो सकता है. इसकी कीमत 4.85 लाख डॉलर है.

7. गो-पैड नाइटराइडटर

इमेज कॉपीरइट GoPed Tactical Division

शायद आपको ऐसा लग रहा होगा, लेकिन ये कोई बच्चों का स्कूटर नहीं है. अमरीका और इजराइल में इस वाहन का इस्तेमाल किया जाता है.

इसे आप युद्ध क्षेत्र में स्कूटर जैसा वाहन कह सकते हैं. इसे अमरीकी स्कूटर निर्माण कंपनी गो-पैड ने बनाया है, इसका नाम है नाइटराइडर.

इसे आप कमतर न आंकें, ना ही इसे खिलौना समझें. गो-पैड होवरबोर्ड के इलेक्ट्रिक स्कूटर और पुलिस स्पेक ईएसआर-750 पोर्टेबल पेट्रोल व्हीकल को मिलाकर इसे तैयार किया गया है.

नाइटराइडर में लिथियम-आयन पॉलीमर बैटरी पैक का इस्तेमाल होता है. इस इलेक्ट्रिक मोटर से 25 मील की यात्रा की जा सकती है और इसकी अधिकतम स्पीड 19 मील प्रति घंटा है.

इसे देखकर आपके मन में ये सवाल तो नहीं उठ रहा है कि इसका इस्तेमाल कौन करेगा.

टेक्टिकल डिविजन के चीफ़ एक्जीक्यूटिव डॉ. रैन लापिड कहते हैं, "मैं केवल इतना कहता हूँ कि इसकी टेस्टिंग और इस्तेमाल दुनिया के ख़ास कमांडो दस्ते कर चुके हैं." इसकी कीमत 4,700 डॉलर के करीब है.

8. पोलारिस एमवी 850 टेरेन आर्मर एडिशन

इमेज कॉपीरइट Polaris Defense

ये अमरीका का पहला सैन्य वाहन है जिसमें बिना गैस वाले टायर का इस्तेमाल हुआ.

सैन्य वाहन एमवी 850 और इसके नागरिक इस्तेमाल वाले वाहन डब्ल्यूवी 850, दोनों वाहन में 77 हॉर्स पॉवर के इंजन का इस्तेमाल किया गया है. 850 सीसी के दो सेलेंडर वाला इंजन सिंगल-स्पीड ट्रांसमिशन के लिए काफी होता है.

टेरेन आर्मर में नॉन-प्यूमेटिक टायरों के इस्तेमाल के बाद अमरीकी सेना अब ऐसे टायरों का इस्तेमाल दूसरे बड़े सैन्य वाहनों में कर सकती है. हमर में भी ऐसे टायरों के इस्तेमाल पर विचार किया जा रहा है. इसकी कीमत 15 हज़ार डॉलर के आसपास थी.

9. सुपाकैट एलआरवी 400

इमेज कॉपीरइट Supacat Limited

क्यूटी वाइल्डकैट को पहले बॉलर वाइल्डकैट कहा जाता था. ये लैंड रोवर डिफेंडर सीरीज की गाड़ी है.

इसी वाइल्डकैट के सैन्य वर्जन को सुपाकैट एलआरवी 400 कहा जाता है. यह दुर्गम इलाकों में भी तेज तर्रार स्पीड से भाग सकती है.

इसका इस्तेमाल सेना के विशेष दस्ते और बॉर्डर पेट्रोल एजेंसी वाले करते हैं. इस जीप में पांच सिलिंडर टर्बो डीज़ल का 3.2 लीटर इंजन लगा है. यह 106 मील प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ सकती है.

इसकी कीमत 2.50 लाख डॉलर के करीब है.

ओशखोश एल-एटीवी

इमेज कॉपीरइट Oshkosh Defense

हमर क पुराने पड़ते 10,000 वाहनों के बेड़े को कैसे रिप्लेस किया जाएगा? इस पर काम शुरू हो गया है. तकनीक की मदद से ऐसा संभव है.

ओशकोश डिफेंस ने एल-एटवी वाहन विकसित किया है.

डीजल और इलेक्ट्रिक हायब्रिड वाहन जरूरत पड़ने पर बिना किसी आवाज़ के मिशन तक पहुंच सकता है. अमरीकी सरकार ऐसे 22 वाहनों को प्रयोग के तौर पर आज़मा रही है, लेकिन अभी इसे आम लोगों को उपलब्ध कराने की योजना नहीं है.

मतलब यह कि ऊपर दिखाए गए नौ वाहन तो आप ख़रीद सकते हैं लेकिन इसे खरीदने के लिए आपको करना होगा इंतज़ार.

अंग्रेज़ी में मूल लेख यहाँ पढ़ें जो बीबीसी ऑटोस पर उपलब्ध है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)