इंटरनेट पर हिट हुई ब्रितानी पंजाबी माँ

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

"लंदन की एक सिख समलैंगिक लड़की का मुझे फ़ोन आया कि उसके परिवार वाले उसे मार डालेंगे. उसने कहा कि क्या मेरे माँ-बाप पंजाबी में कोई वीडियो बनाकर उसके माँ-बाप को भेज सकते हैं, शायद घरवाले समझ जाएँ. इसी के बाद मेरी माँ और मैने सोचा कि समलैंगिकता पर एक वीडियो बनाया जाए...लेकिन ज़बान पंजाबी हो."

ये किस्सा सुनाते हैं ब्रिटेन में रहने वाले सिख समलैंगिक मनजिंदर सिंह. इन दिनों यू ट्यूब पर इस 'देसी पंजाबी माँ' स्वर्ण कौर का वीडियो वायरल हो रहा है. इसमें बूढ़ी पंजाबी माँ बेटे बड़े ही कूल अंदाज़ में वीडियो पर समलैंगिक बच्चों को अपनाने का संदेश देती है.

मसलन -अगर बच्चे आपको बताते हैं कि वो समलैंगिक हैं तो उन्हें ऐसे ही स्वीकार करो, ज़बरदस्ती बदलने की कोशिश से उनपर बुरा असर हो सकता है.

मनजिंदर बताते हैं, "ये वीडियो दो-तीन लोगों को दिखाने के हिसाब से बनाया था और कोई प्रेक्टिस तक नहीं की थी. मैं तो पायजामा पहनकर बैठे हुआ हूँ. लेकिन देखते ही देखते ये वीडियो काफ़ी हिट हो गया है."

वीडियो देखने के लिए यहाँ क्लिक करें.

'डॉक्टर से दिखवाया'

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

पेशे से मानवाधिकार कार्यकर्ता मनजिंदर अपनी कहानी कुछ यूँ बताते हैं, "मैं संयुक्त राष्ट्र में काम करता था. कभी माँ-बाप को नहीं बताया कि गे हूँ. उनसे बस औपचारिकता जैसा रिश्ता हो गया था, समलैंगकिता की बात छिपाने से बहुत दबाव महसूस करता था. मेरी माँ को तो पता भी नहीं था कि समलैंगिक होते क्या हैं. एक दिन मैने हिम्मत करके उनको इसराइल से एसएमएस किया."

वीडियो में मनजिंदर की माँ वो पल भी साझा करती हैं, जब उन्हें बेटे के समलैंगिक होने का पता चला. वे कहती हैं, "जब पहले कुछ महसूस नहीं हुआ. बाद में मैं अपने बेटे को 'ठीक कराने' के लिए गुरुद्वारे लेकर गई थीं."

मनजिंदर उस समय को याद करते हुए बताते हैं, "जब मैं ब्रिटेन लौटा तो वे मुझे गुरुद्वारे ले गए ठीक कराने के लिए और डॉक्टर के पास भी. सौभाग्यवश सिख डॉक्टर ने माँ को बताया कि मैं कुदरती तौर पर ऐसा हूँ और ठीक करने की कोई ज़रूरत नहीं. गुरुद्वारे में भी यही बताया. उसके बाद मम्पी पापा ने मुझे स्वीकार लिया."

माँ को पता नहीं था गे क्या है

मनजिंदर की माँ दशकों पहले पंजाब से इंग्लैंड आई थीं.

मनजिंदर कहते हैं, "मेरी माँ के पीढ़ी के कई लोग आज भी अंग्रेज़ी नहीं जानते. ब्रिटेन में रहते हुए भी समलैंगिकता से अनजान है. दरअसल वो जब दशकों पहले भारत से इंग्लैंड आए तो यहाँ के पश्चिमी कल्चर को देखकर बौखला गए. उन्हें अपनी संस्कृति को खो देने का डरा था. दरअसल वो 50 साल वाले भारत में ही रहते हैं. "

"इसी की नतीजा है कि ब्रिटेन में बसे कई भारतीय परिवार बच्चों को बहुत बंदिशों में रखते हैं. भारत के शहरों में भी परिवारों में ऐसी बंदिश नहीं होती."

लेकिन मनंजदिर की माँ स्वर्ण कौर अब बेटे का पूरा समर्थन करती हैं.

वीडियो में स्वर्ण कौर की माँ-बाप को सलाह कि अपने सलमैंगिक बेटे या बेटी की ज़बरदस्ती शादी कर किसी की ज़िंदगी बर्बाद मत करो.

'शर्मा का पर्दा उतारो'

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

ऐसे ही लोगों तक पहुँचने के लिए मनजिंदर पंजाबी में समलैंगिकता पर रेडियो शो भी करते हैं. हालांकि ये उनके लिए आसान नहीं था.

वो बताते हैं, "रिश्तेदारों को लगता था कि मैं परिवार की इज़्ज़त मिट्टी में मिला रहा हूँ. कइयों ने तो टीवी से जाना कि मैं गे हूँ."

भारत में एक साल बिता चुके मनजिंदर कहते हैं कि यहाँ समलैंगिक होना कई जगह ख़तरे से खाली नहीं है और कई भारतीय स्काइप से उनसे सलाह माँगते हैं.

मनजिंदर की सलाह है- समलैंगिक होने पर से शर्म का पर्दा उठाओ.

वहीं मनजिंदर की माँ वीडियो में लोगों को आख़िर में ये सलाह देती हैं- समलैंगिक बच्चों को स्वीकार करो, उन्हें बदलने की कोशिश मत करो, ज़बरदस्ती उनकी शादी न करो और उनकी ख़ुशी में ही ख़ुशी ढूँढो.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार