चीन में महिला क़ैदियों की बढ़ती संख्या

चीन की महिला क़ैदी इमेज कॉपीरइट AP

पिछले साल दिसंबर में अदालत में पेशी के दौरान डिंग युक्सिन रो पड़ी थीं.

सिर्फ़ एक दिन की सुनवाई के बाद उन्हें एक सरकारी कर्मचारी को रिश्वत देने के आरोप में 20 साल की सज़ा सुनाई गई थी.

जब फ़ैसला सुनाया गया तो युक्सिन बेचैनी से इधर-उधर हिल रहीं थी और सुरक्षा गार्डों ने आकर उन्हें संभाला. उनके आँसू बह रहे थे.

सिर्फ़ प्राथमिकी शिक्षा हासिल करने वाली युक्सिन ने कोयले और रेलवे के सरकारी ठेके हासिल कर बड़ा आर्थिक साम्राज्य खड़ा किया था. बहुत से ठेके सरकारी अधिकारियों को रिश्वत देकर हासिल किए गए थे. युक्सिन ने क़रीब 32 करोड़ डॉलर की कमाई की थी.

वे नई क़िस्म के चीनी क़ैदियों का अदाहरण हैं. एक महिला जिसे अहिंसक अपराध के लिए जेल भेजा गया हो. चीन कैसे बदल रहा है यह इसका एक असामान्य प्रतीक है.

तेज़ी से इज़ाफ़ा

इमेज कॉपीरइट Getty

अमरीका स्थित जेल अधिकार संस्थान दुई हुआ के मुताबिक चीन में महिला क़ैदियों की संख्या में तेज़ी से इज़ाफ़ा हो रहा है. पिछले एक दशक में इसमें 46 फ़ीसदी की बढ़ोत्तरी हुई है. जबकि पुरुष क़ैदियों की संख्या में सिर्फ़ दस प्रतिशत का ही बढ़ावा हुआ है.

चीन में कुल क़ैदियों में महिलाएं सिर्फ़ 6.3 फ़ीसदी ही हैं. यदि यही रफ़्तार रही तो जल्द ही चीन की महिला क़ैदियों की संख्या अमरीकी महिला क़ैदियों को पार कर जाएगी.

अमरीका में सबसे ज़्यादा महिलाएं जेलों में बंद हैं.

हालांकि चीन की जेलों के आंकड़ें संदेहास्पद हैं. इनमें किशोर जेलों में बंद लाखों महिलाओं, अनिवार्य ड्रग्स पुनर्वास और शिक्षा कैंपों को शामिल नहीं किया गया.

बावजूद इसके जेलों में महिला क़ैदियों की संखा तेज़ी से क्यो बढ़ रही है?

इमेज कॉपीरइट AFP

बदलाव का दौर

रेनमिन यूनिवर्सिटी के दंड प्रक्रिया और सुधार केंद्र के उप निदेशक डॉक्टर चेंग ली कहते हैं, "बड़ा कारण यह है कि चीन बदलाव के दौर से गुज़र रहा है. पिछले कुछ सालों से हमने ड्रग तस्करी और टेलिकम्यूनिकेशन धोखाधड़ी जैसे अहिंसक मामलों में महिलाओं की संलिप्तता में बढ़ोत्तरी देखी है."

चीन की भ्रष्टाचार विरोधी मुहिम का भी जेल में क़ैदियों की संख्या पर असर पड़ रहा है.

चीन में सरकारी नौकरियों में महिलाओं की संख्या बढ़ी है, ऐसे में रिश्वत के आरोपों में जेल जाने वाली महिलाओं में भी इज़ाफ़ा हुआ है.

डॉक्टर चेंग ली के मुताबिक हिंसक अपराध महिलाओं क़ैदियों की संख्या में बढ़ोत्तरी के लिए ज़िम्मेदार नहीं हैं.

इमेज कॉपीरइट

वे कहते हैं, "पहले बहुत सी महिलाएं घरेलू हिंसा की शिकार होती थी और उसी के जवाब में हिंसा करती थीं लेकिन अब यह आंकड़े स्थित हो गए हैं."

चीनी जेलों को भी महिला क़ैदियों की बढ़ती संख्या को स्वीकार करना होगा.

चीन में जेलों में क़ैदियों को कुछ ऐसी राहतें मुहैया हैं जो पश्चिमी देशों में नहीं हैं. गर्भवती क़ैदियों को जंज़ीरों में नहीं जकड़ा जा सकता. क़ैदी माँ के साथ छोटे बच्चों को जेल में बंद नहीं किया जाता.

लेकिन चीनी जेलों में समस्याएं भी बहुत हैं.

महिला जेलों की संख्या बेहद कम है. औसतन प्रत्येक प्रांत में सिर्फ़ एक ही महिला जेल है.

इमेज कॉपीरइट AFP

संबंधियों से मुलाक़ात

डॉक्टर चेंग कहते हैं, "परिजनों के लिए जेल में आकर मुलाक़ात करना मुश्किल होता है क्योंकि उन्हें लंबी दूरी तय करनी पड़ती है. ज़्यादातर चीनी जेलें हाल ही में बनी हैं और दूरस्थ इलाक़ों में हैं."

परिजनों के साथ सीमित संबंध सबसे अहम मुद्दा है.

सभी क़ैदी परिजनों से अधिक मुलाक़ातों का आग्रह करते हैं लेकिन महिला क़ैदियों के लिए ये मुद्दा अधिक चिंता की बात है. अक़्सर वे ही अपने बच्चों की देखभाल की ज़िम्मेदारी उन्हीं पर रहती है.

बच्चों से मुलाक़ात भी कांच के पीछे से होती है और माँ अपने बच्चे को गोद में लेने से मरहूम रह जाती हैं.

सरल शब्दों में कहा जाए तो जेल की सलाख़ों के पीछे क़ैद बहुत सी महिलाएं माँ भी होती हैं. चीन के अधिकारियों को ये इस तथ्य को भी स्वीकारना होगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार