घर ख़रीदने का ये कौन सा रिवाज़?

फ्रांस का एक घर इमेज कॉपीरइट Other

एक ऐसी प्रॉपर्टी ख़रीदना जिसमें किराएदार रहते हों और उन्हें गुजारा भत्ता देना सुनने में बेतुका निवेश मालूम होता है, लेकिन फ्रांस में नवीं शताब्दी से ही ऐसा चलन चला आ रहा है.

अनोखी बात ये है कि अब ये तरीका ज़्यादा लोकप्रिय हो रहा है, लेकिन क्यों?

अनोखा सौदा

इमेज कॉपीरइट Think Stock

हम सब जानते हैं कि एक घर बेचने के लिए क्या दरकरार होती है?

तुरंत तैयार हुई कॉफी, अवन में पकती ब्रैड की महक, लेकिन अगर आप फ्रांस की पुरानी 'वाइगर चलन' के तहत घर ले रहे हैं तो आपको बाथरूम में अल्मारियों में दवाओं की बोतलों का ढेर मिलेगा और खांसी की बेसुरी आवाज सुनाई देगी.

ऐसी डील में खरीददार क़ीमत देता है, लेकिन कब्ज़ा मालिक की मौत के बाद लेता है.

इस मामले को ये बात पेचीदा बनाती है कि ख़रीददार को पूर्व मालिक को (जो अब किरायदार बन चुका है) उसके जीवित रहने के दौरान एक मासिक रकम देनी होती है.

विक्रेता से उसकी तबियत के बारे में सवाल पूछने की मनाही होती है.

ऐसी डील से जुड़े एक एजेंट ने मुझे बताया, "कुछ विक्रेता अस्वाभिवक अभिनय करते हैं. वो सोफ़े पर अपने घुटनों को कंबल से ढककर बैठते हैं और हिलते भी नहीं. हक़ीक़त में उनकी तबियत ठीक होती है."

उन्होंने बताया कि ख़रीददार अक्सर इस तरह का आश्वासन चाहते हैं. "उनमें से कुछ उम्मीद करते हैं कि घर में रहने वाला 100 साल का बुजुर्ग हो."

बढ़ता चलन

इमेज कॉपीरइट

फ्रांस में इस तरह के सौदे ज्यादा नहीं होते. इनकी संख्या एक फ़ीसदी से भी कम है लेकिन इस व्यापार के इस पुराने तरीके का प्रचलन बढ़ा है.

इसकी वजह ये है कि पेरिस जैसी जगहों पर प्रॉपर्टी की कीमत काफी ज्यादा है.

रीनी कोस्ट्स वाइगर फ्रांस में होने वाली ऐसी डील में से चालीस फीसदी को संभालती हैं.

उनके मैनेजिंग पार्टनर स्टैनली नैहॉन बताते हैं कि इसका बाज़ार छह से आठ फीसदी सालाना की दर से बढ़ रहा है और उनकी एजेंसी से हर साल 12 हज़ार बुजुर्ग डील के लिए संपर्क करते हैं.

डिमांड बढ़ने की वजह ये है कि उम्रदराज़ लोगों की संख्या बढ़ रही है. वो बताते हैं कि बुजुर्गों की पेंशन का मूल्य रहन सहन पर होने वाले खर्च के मुक़ाबले घटता जा रहा है.

वारिसों का दखल

इमेज कॉपीरइट
Image caption माई ओल्ड लेडी फिल्म का एक दृश्य

स्टेनली नैहॉन के मुताबिक दस फीसदी डील ऐसी होती हैं, जिसमें बच्चों को तब पता चलता है जबकि उनके मां-बाप की मौत हो जाती है.

लेकिन ऐसी गोपनीयता कम ही रहती है. कई बच्चे अपने मां-बाप को घर से जुड़ी रकम देने के लिए कहते हैं जिससे वो बुढ़ापे के लिए आसरा बना सकें.

पिछले साल ऐसी ही कहानियों पर आधारित एक फिल्म भी बनी थी, जिसमें मैगी स्मिथ ने 'वाइगर डील' करने वाली महिला का किरदार निभाया था और केविन क्लाइन उनके निर्धन बेटे बने थे जो उनकी संपत्ति बेचने की उम्मीद में पेरिस पहुंचे थे.

डील कराने वाले कहते हैं कि डरावनी कहानियों के उलट अक़्सर विक्रेता और खरीददार के बीच अच्छे रिश्ते भी बनते हैं. वो साल में एक बार चाय पीने के लिए जुटते हैं या फिर चॉकलेट का डिब्बा भेजते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार