ग्रीस के संकट पर यूरोज़ोन परेशान

ग्रीस इमेज कॉपीरइट epa

ग्रीस के लोगों के जनमत संग्रह में आर्थिक बेलआउट पैकेज की शर्तों को मानने से इनकार करने के बाद फ्रांस और जर्मनी के नेताओं ने ग्रीस से अपील की है कि वो देश के कर्ज़ संकट से निपटने के लिए जल्द से जल्द स्पष्ट प्रस्ताव पेश करें.

ग्रीस के प्रधानमंत्री एलेक्सिस त्सिप्रास मंगलवार को यूरोज़ोन के वित्तमंत्रियों की आपातकाल बैठक को संबोधित करेंगे.

जर्मनी के आर्थिक मामलों के मंत्री ने चेतावनी दी है कि ग्रीस के कर्ज़ को बिना शर्त निरस्त करने से यूरोज़ोन की मुद्रा यूरो को बहुत नुकसान पहुंचेगा.

कर्ज़ से राहत की उम्मीद

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption ग्रीस जनमतसंग्रह में 'नहीं' का समर्थन करता व्यक्ति

ग्रीस के प्रशासनिक सुधारों के उपमंत्री जॉर्ज काट्रोगालोस ने बीबीसी को बताया कि किसी भी भावी समझौते में ग्रीस, राहत के कुछ प्रावधानों को देखना चाहेगा.

उन्होंने कहा, "हम कुछ रियायतों के लिए तैयार हैं बशर्ते कि हमें भी कर्ज से कुछ राहत मिले."

आईएमएफ ने पहले ही कहा है कि ग्रीस का कर्ज़ लंबे समय तक चलने वाला कर्ज़ नहीं है.

वित्त मंत्री का इस्तीफा

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption ग्रीस के पूर्व वित्तमंत्री वारोफाकिस

उधर ग्रीस के वित्त मंत्री यानिस वारोफाकिस ने इस्तीफा दे दिया है और उनकी जगह यूक्लिड त्साकालॉटॉस ने ली है जो इससे पहले ग्रीस की तरफ से अंतरराष्ट्रीय कर्ज़दाताओं से बातचीत करने वाले मुख्य वार्ताकार थे.

त्साकालॉटॉस का कहना है कि वो पूर्व वित्तमंत्री के काम को ही आगे बढ़ाएंगे.

उन्होंने इस बात पर ज़ोर दिया कि ग्रीस इस मोड़ तक यानिस वारोफाकिस के बगैर नहीं पहुंच सकता था.

यूरोज़ोन जल्द हल ढूंढने की कोशिश में

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption यूरोज़ोन के वित्तमंत्री

दूसरी तरफ जर्मन चांसलर एंगला मर्केल फ्रांस के राष्ट्रपति फ्रांसुआ ओलां से ग्रीस के कर्ज़ पर बातचीत कर रहीं हैं ताकि एक आम सहमति बन सके.

यूरोज़ोन के वित्तमंत्री भी इसी मुद्दे पर आज आपातकालीन बैठक बुला रहे हैं.

एक संयुक्त संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए चांसलर मेर्केल ने कहा कि उन्हें उम्मीद है, जल्द से जल्द समस्या का समाधान किया जाएगा.

और इस स्थिति में समय रहते काम करना बहुत ज़रूरी है.

ईसीबी देता रहेगा मदद

इमेज कॉपीरइट AFP

इस बीच, यूरोपीय केंद्रीय बैंक (ईसीबी) ने कहा है कि वो ग्रीस के बैंकों को आपात नगदी समर्थन देना जारी रखेगा, जो नगदी की कमी के कारण ठप होने के कगार पर हैं.

हालांकि ग्रीस के बैंक बुधवार तक बंद रहेंगे और एक दिन में बैंक से सिर्फ़ 60 यूरो तक की राशि निकालने की पाबंदी जारी रहेगी.

ग्रीस के आर्थिक अस्तित्व के लिए अब ज़रूरी हो गया है कि ग्रीस और उसके कर्ज़दाताओं में जल्द ही कोई ठोस समझौता हो.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार