ग्रीस क़र्ज़ की शर्तें लागू करेगा, बाज़ार संभले

इमेज कॉपीरइट epa

ग्रीस के प्रधानमंत्री एलेक्सिस त्सिप्रास अपने देश को मिलने वाले तीसरे बेल आउट पैकेज की शर्तों को लागू करने के लिए सहमत हो गए हैं.

ब्रसेल्स में वार्ताओं के मराथन दौर के बाद सोमवार को इस पैकेज पर सहमति बनी.

इसकी शर्तों में कहा गया है कि ग्रीस बुधवार तक टैक्स बढ़ाने, पेंशन में कटौती करने और श्रम कानूनों में बदलाव से जुड़े फ़ैसलों को मंज़ूरी देगा.

ग्रीस की संसद से इन बदलावों को मंजूरी मिलने के बाद ही उसे अगले तीन साल के दौरान 95 अरब डॉलर का तीसरा राहत पैकेज देने पर वार्ता शुरू होगी.

वैसे बेल आउट पर बनी सहमति का सकारात्मक असर सोमवार को ही यूरोपीय शेयर बाज़ारों पर दिखने लगा.

इमेज कॉपीरइट Reuters

ब्रिटेन, जर्मनी और फ्रांस, इन सभी देशों के शेयर सूचकांकों में बढ़त देखी गई.

भारतीय शेयर बाज़ार भी 300 अंकों की बढ़त के साथ बंद हुआ.

मैर्केल की चेतावनी

प्रधानमंत्री त्सिप्रास ने कहा कि इस मुद्दे पर ग्रीस अच्छी तरह लड़ा, लेकिन अब उसने मुश्किल फैसले लेने होंगे.

उधर यूरोपीय आयोग के प्रमुख ज्यौं क्लोद युंकर का कहना है कि ग्रीस के यूरोजोन छोड़ने की आशंकाएं अब टल गई हैं.

वहीं फ्रांस के राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओला ने कहा कि बेल आउट पैकेज पर बनी सहमति से यूरोप की एकता और एकजुटता बनी रहेगी.

इमेज कॉपीरइट PA

उन्होंने कहा कि इस समझौते से पता चलता है कि यूरोप अपनी समस्याएं सुलझाने में सक्षम है.

लेकिन जर्मन चांसलर एंगेला मैर्केल ने चेतावनी दी है कि समझौता हो जाने के बावजूद इसके अंतिम स्वरूप को तय करने के लिए ग्रीस और उसके यूरोपीय साझेदारों को लंबा रास्ता तय करना है.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)