पाकिस्तान में 'बजरंगी भाईजान' रिलीज़ होगी लेकिन..

इमेज कॉपीरइट spice

पाकिस्तानी सेंसर बोर्ड ने सलमान ख़ान की नई फ़िल्म 'बजरंगी भाईजान' को पाकिस्तान में रिलीज़ करने की अनुमति दे दी है.

हालांकि कश्मीर से जुड़े चंद वाक्यों को हटाने के बाद ही फ़िल्म को रिलीज़ किया जाएगा.

ये फ़िल्म ईद से पहले 17 जुलाई को दुनिया भर के सिनेमा घरों में रिलीज़ होगी.

सेंसर बोर्ड सिंध के प्रमुख फख़्र-ए-आलम ने बीबीसी को बताया कि 'बजरंगी भाईजान' एक अच्छी और सकारात्मक फ़िल्म है और इसमें पाकिस्तान और पाकिस्तानियों को सकारात्मक तरीके से पेश किया गया है.

उन्होंने फ़िल्म में कश्मीर से जुड़े वाक्यों को हटाने पर कुछ भी कहने से इनकार कर दिया.

कौन सा सीन हटा

इमेज कॉपीरइट by Spice PR

सूत्रों के मुताबिक़ सेंसर बोर्ड ने जो वाक्य हटाए हैं उनमें फ़िल्म में सलमान ख़ान एक पाकिस्तानी मौलवी को एक ख़ूबसूरत और हरे भरे पहाड़ी इलाके की तस्वीर दिखा कर इसका नाम पूछते हैं तो मौलवी साहब (ओमपुरी) कहते हैं कि ये कश्मीर मालूम होता है.

इस पर सलमान ख़ान कहते हैं कि मुझे वहां जाने के लिए वापस हिंदुस्तान जाना होगा जिस पर मौलवी कहते हैं, 'नहीं छोटा सा कश्मीर हमारे पास भी है.'

पाकिस्तान सेंसर बोर्ड ने ये वाक्य काट कर फ़िल्म को रिलीज़ करने की इजाज़त दी है.

इससे पहले ऐसी अटकलें लग रही थीं कि इस फ़िल्म को पाकिस्तान में रिलीज़ नहीं होने दिया जाएगा क्योंकि इसमें पाकिस्तान से जुड़ी विवादास्पद बातें कही गई हैं.

फिल्म एक ऐसे व्यक्ति बजरंगी (सलमान) की कहानी है जो एक पाकिस्तानी बच्ची को वापस उसके मुल्क छोड़ने जाता है.

तीर्थ यात्रा पर भारत आए अपने परिवार से ये बच्ची बिछड़ जाती है. फिल्म में दिखाया गया है कि पाकिस्तानी लोग कैसे बजरंगी की मदद करते हैं.

ये फिल्म भारत और पाकिस्तान के बीच बेहतर रिश्तों की जरूरत पर भी ज़ोर देती है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)