आईएस से जुड़े गुट ने मिस्र में किया हमला

मिस्र के पास सिनाई प्रायद्वीप में इस्लामिक स्टेट से जुड़े चरमपंथियों ने कहा है कि उन्होंने भूमध्यसागर में मिस्र के एक नौसैनिक नौका पर मिसाइल से हमला किया है.

ख़ुद को सिनाई प्रोविंस कहने वाले चरमपंथियों ने इंटरनेट पर तस्वीरें जारी की हैं जिसमें नौका से मिसाइल के टकराने के बाद एक बड़ा धमाका होना दिखाया गया है.

वहीं मिस्र में अधिकारियों का कहना है कि समुद्री तट पर चरमपंथियों के साथ लड़ाई में एक नौका में आग लग गई.

चरमपंथियों के दावे को ख़ारिज करते हुए सेना ने कहा है कि इसमें किसी तरह के जान-माल का कोई नुकसान नहीं हुआ है.

मिस्र में आधिकारिक आँकड़ों से अलग आँकड़ें देने पर भारी भरकम हर्जाना देना पड़ता है, इसलिए इस बात की पुष्टि करना मुश्किल होगा कि मिस्र के दावे सही हैं या चरमपंथियों के.

हमले

इमेज कॉपीरइट

ताज़ा हमला उत्तरी सिनाई के रफ़ा शहर के पास हुआ है जो कि गज़ा पट्टी से लगा हुआ इलाक़ा है.

प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि उन्हें कुछ अन्य नौसैनिक नावें भी देखीं जो कि जलते हुए जहाज़ में फँसे लोगों को बचाने में लगी हुई थीं.

मिस्र की सेना पर सिनाई प्रोविंस में कई हमले कर चुका है.

इस महीने की शुरुआत में सिनाई के रफ़ा शहर में चरमपंथियों के साथ लड़ाई में कम से कम सौ लोगों की मौत हो गई थी जिनमें 17 सैनिक भी शामिल थे. सिनाई प्रायद्वीप से इसराइल की 240 किलोमीटर लंबी सीमा लगती है.

इस हमले को शिपिंग के लिहाज़ से चिंताजनक घटना माना जा रहा है. बीबीसी में सुरक्षा मामलों के संवाददाता फ्रैंक गार्नडर के मुताबिक समुद्र से चरमपंथियों को असले को हटाना मुश्किल साबित हो रहा है.

सिनाई प्रोविंस

मिस्र लगातार कहता रहा है कि वो सिनाई प्रायद्वीप को चरमपंथियों से मुक्त करेगा. अक्तूबर से ही यहाँ आपातकाल लगा हुआ है.

खुद को सिनाई प्रोविंस कहने वाला चरमपंथी पहले अनसाल बेत अल मक़दिस नाम से बुलाया जाता थआ लेकिन 2014 में इसने नाम बदल लिया जब इसने खुद को आईएस के साथ जोड़ा.

2013 में मोहम्मद मोर्सी को सत्ता से हटाए जाने के बाद से ही ये गुट ज़्यादा सक्रिय हो गया है. उसके बाद से 600 पुलिसकर्मियों और सैनिकों को मार चुका है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार