विपक्ष की जीत भी स्वीकार्य: म्यांमार सेनाध्यक्ष

म्यांमार के सेना प्रमुख इमेज कॉपीरइट

म्यांमार के सेना प्रमुख का कहना है कि इस साल के आख़िर में होने वाले चुनावों में अगर विपक्ष भी निष्पक्ष रूप से जीत हासिल करता है तो वे नतीजों का सम्मान करेंगे.

बीबीसी को दिए गए एक ख़ास इंटरव्यू में जनरल मिन आंग ह्लाइंग ने कहा कि देश की राजनीति में सेना की भूमिका तब तक रहेगी जब तक म्यांमार के नस्ली विद्रोही गुटों के साथ शांति का माहौल नहीं बन जाता.

उम्मीद है कि नवंबर में होने वाले चुनावों में नोबेल पुरस्कार विजेता आंग सांग सू ची की पार्टी नैशनल लीग फॉर डेमोक्रेसी ख़ासी सीटें जीत सकती है.

इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption विपक्षी नेता आंग सांग सू ची पर राष्ट्रपति चुनाव लड़ने पर है अब भी प्रतिबंध

बर्मा के संविधान ने सू ची के राष्ट्रपति चुनाव लड़ने पर प्रतिबंध बरक़रार रखा है.

सू ची की पार्टी ने 1990 में चुनाव जीता था लेकिन सेना ने उसे सत्ता में आने से रोक दिया था.

म्यांमार में फिलहाल सैनिक शासन की जगह सेना समर्थित सरकार काम कर रही है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार