चोरी कर के रख दी नकली पेंटिंग

चीनी पेंटिंग प्रदर्शनी इमेज कॉपीरइट Getty

चीन में एक व्यक्ति ने मशहूर कलाकारों की 140 पेंटिंग चुराई और इनमें से 125 पेंटिंग की जगह नकली पेंटिंग रख दी.

पेंटिंग चुराने वाले शख्स जियाओ युआन ने गुआंगझू की अदालत में खुद ये बात कबूली है.

जियाओ युआन गुआंगझू ललित कला अकादमी में क्यूरेटर थे. उन्होंने 125 पेंटिंग को 3 करोड़ 40 लाख युआन (60 लाख डॉलर) से अधिक की राशि में बेच दिया.

जियाओ के पास आर्ट यूनिवर्सिटी के उस स्टोररूम की चाबी हुआ करती थी जहां नामी-गिरामी कलाकारों की पेंटिंग रखी रहती थी.

'कला से जुड़ी जालसाज़ी'

साल 2004 से 2011 के बीच जियाओ ने 125 पेंटिंग चुराई.

अभियोजन पक्ष के अनुसार जियाओ ने बाद में 18 और पेंटिंग चुराई जिनकी कीमत 7 करोड़ युआन से भी अधिक आंकी गई है.

इमेज कॉपीरइट AP

जियाओ ने साल 2010 में धोखाधड़ी के आरोप लगने के बाद यूनिवर्सिटी छोड़ दी थी.

साल 2012 में समाचार एजेंसी शिन्हुआ ने जानकारी दी थी कि देश में 'कला से जुड़ी जालसाजी' तेजी से बढ़ रही है.

उसी साल यूरोपीय फाइन आर्ट फाउंडेशन की ओर से चीन को कला और प्राचीन कलाकृतियों का दुनिया का सबसे बड़ा बाजार बताया गया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार