ऐपल के पास कई देशों की जीडीपी से अधिक नक़दी

एपल लोगो इमेज कॉपीरइट Getty

विश्व की नंबर एक आईटी कंपनी ऐपल के पास भूटान और लाइबेरिया जैसे देशों की कुल जीडीपी से भी अधिक नकदी है.

अप्रैल-जून तिमाही के नतीजे घोषित करने के बाद ऐपल के शेयर बुधवार को न्यूयॉर्क स्टॉक एक्सचेंज पर लुढ़क गए. ऐसा नहीं है कि नतीजे ख़राब रहे हों.

कंपनी ने तिमाही में पिछले साल की इसी अवधि के मुक़ाबले 35 प्रतिशत अधिक आईफ़ोन बेचे, लेकिन विश्लेषकों को जितने आईफ़ोन बिकने की उम्मीद थी, ये उस उम्मीद पर खरे नहीं उतरे.

शेयर बाज़ार में कंपनी ने कुछ ही मिनटों के भीतर करीब पाँच प्रतिशत लुढ़क गए और कंपनी की मार्केटकैप 4000 करोड़ डॉलर घट गई.

सबसे ज़्यादा नकदी वाली कंपनी

बावजूद इसके कंपनी की बैलेंसशीट में 20,300 करोड़ डॉलर (क़रीब 1.29 लाख करोड़ रुपए) की नकदी दिखाई गई है और 200 बिलियन डॉलर कैश रखने का आंकड़ा रखने वाली यह दुनिया की पहली कंपनी है.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

ऐपल की बैंलेंसशीट में नकदी का ये आंकड़ा कई देशों के सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) से भी अधिक है. 1 जुलाई 2015 को जारी वर्ल्ड बैंक के आंकड़ों के अनुसार लाइबेरिया की जीडीपी 202.7 बिलियन डॉलर थी और रैंकिंग के लिहाज से यह दुनिया में 168वीं पायदान पर था.

इसके अलावा ऐपल के पास भूटान, जिबोती, सेंट लूसिया, एंटीगा और बारबुडा, ग्रेनाडा, टोंगा जैसे देशों की जीडीपी से अधिक नकदी है.

वर्ल्ड बैंक द्वारा जारी रैंकिग में 168वीं पायदान से 194वीं पायदान के देशों की जीडीपी ऐपल के पास मौजूदा नकदी से कम है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार