'वो जानता था कि मैं 14 साल की थी'

अमरीका में गरीबी, अभाव और शोषण की वजह से हज़ारों बच्चे एक अंधेरी दुनिया में धकेले जा रहे हैं.

यह एक ऐसी दुनिया है जिसके बारे में बहुत अमरीकियों को पता है. लाखों अमरीकी बच्चे हर साल यौन शोषण का शिकार होते हैं.

ऐसा माना जाता है कि हर रात सैकड़ों बच्चे सेक्स के लिए बेचे जाते हैं.

एफ़बीआई का कहना है यौन उत्पीड़न महामारी के स्तर तक फैला हुआ है. पिछले साल एफ़बीआई ने 600 बच्चों को बचाया था.

अमरीका में मेक्सिको, दक्षिण और मध्य अमरीका से बच्चों की तस्करी की जाती है. लेकिन अमरीका में हर रात सेक्स के लिए खरीदे और बेचे जाने वाले ज़्यादातर बच्चे अमरीकी ही हैं.

भयावह दास्तां

Image caption जेनी गेन्स 14 साल की उम्र में तस्करी का शिकार हो गई थी.

कई औरतों ने हमें अपने जीवन की एक जैसी भयावह दास्तां हमें सुनाई.

शोषण, उत्पीड़न और बचपन से उपेक्षा की शिकार होती आई अपनी ज़िंदगी के बारे में उन्होंने बताया.

कभी-कभी तो उन्हें उन लोगों ने भी शिकार बनाया जिन्हें उन्हें बचाना चाहिए था.

कुछ अच्छे और दयालु लोग और एफ़बीआई जैसे कुछ क़ानूनी संस्थाओं से उन्हें कुछ राहत ज़रूर मिली.

लेकिन जो कहानी हमने उनकी सुनीं वो सिर्फ अमरीका की सबसे काले अध्याय की एक बानगी भर थी.

मीनेसोटा में मैं सेक्स वर्कर्स रह चुकी कई महिलाओं से मिला. इन सभी को ब्रेकिंग फ्री नाम की संस्था से मदद मिल रही थी. इनमें से आधे से ज़्यादा को 18 साल से कम उम्र में सेक्स के लिए बेच दिया गया था. कई 18 से कुछ ही बड़ी थीं.

फ़ायदा

एक महिला ने बताया कि उन्हें उनकी आंटी ने 14 साल की उम्र में खरीदा था.

"उन्होंने मेरी मां को करीब 57 हज़ार रुपए दिए. मुझसे कहा कि मैं शॉपिंग मॉल जा रही हूं."

आंटी उन्हें ड्रग डिलर के घर ले गईं जहां उन्हें ड्रग दिया गया और उनके साथ बालात्कार किया गया.

एक दूसरी महिला बताती हैं कि जब उन्हें घर से निकाला गया तो वे महज 17 साल की थीं.

उनका कहना है, "मैं बहुत कुछ पाना चाहती थी. "

वो कहती हैं, "मैं सेक्स वर्कर के रूप में काम करने लगी. बाद में मैं ज़्यादा पैसे कमाने के लिए Backpage.com पर विज्ञापन के सहारे का इस्तेमाल करने लगी."

एक महिला को महज 14 साल की उम्र में उस आदमी ने अगवा कर लिया गया जिसके बारे में वो सोचती थीं कि वो उन्हें पसंद करता है.

वे दो साल तक घर नहीं लौटीं. 'ब्रेकिंग फ्री' की चर्चा में अहम भूमिका निभाने वाली जेनी गेन्स का कहना है, "कई ऐसे है जो चलाकी से कम उम्र की लड़कियों का फ़ायदा उठाते हैं."

मुश्किल लड़ाई

एक महिला बताती हैं, "मेरे साथ ग़लत करने वाले को पता था कि मैं सिर्फ 14 साल की हूँ, इसके बावजूद मैं उसके सामने 18 की दिखने की कोशिश करती रही."

"जब उसे वाकई में पता चला कि मैं कितनी बड़ी हूं तो वे रुका नहीं. वो मुझे और ज़्यादा चाहने लगा."

एक महिला जो 14 साल की उम्र में पहली बार तस्करी का शिकार हो गई थी. उनका कहना है कि वो वेश्यावृति में वापस नहीं जाना चाहती.

वो कहती हैं, "यह एक बहुत बड़ा घेरा है, आप जैसे आगे बढ़ते हैं आप इसमें फंस जाते हैं. आपको पैसा मिलता है और आप इसके इर्द-गिर्द नाचते रहते हैं. आपको ये सब करते हुए इसे तोड़ना होगा."

यह एक बहुत मुश्किल लड़ाई है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार