एमएच370: मिले अवशेषों की जांच शुरू

टुलूज़ इमेज कॉपीरइट
Image caption विमान के अवशेषों की जांच टुलूज़ में शुरू होगी

फ्रांस के विशेषज्ञ रियूनियन द्वीप पर मिले विमान के पंखों के अवशेषों की जांच करेंगे ताकि ये पता लगाया जा सके कि ये अवशेष फ्लाइट एमएच370 के हैं या नहीं.

विमान का ये हिस्सा जिसे फ्लैपरन कहा जाता है, बोइंग 777 का है. लापता मलेशियाई विमान भी इसी बोइंग कंपनी का था.

फ्रांस ने मलेशिया और ऑस्ट्रेलिया के विमानन विशेषज्ञों को भी जाँच में मदद के लिए टुलूज़ बुलाया है.

इसी हफ़्ते नतीजे

इमेज कॉपीरइट EPA
Image caption बोइंग 777 के अवशेष

ऑस्ट्रेलिया के उप प्रधानमंत्री वारेन ट्रस ने कहा है कि विशेषज्ञों का ये दल इसी हफ्ते ये बता सकेगा कि ये अवशेष उसी लापता विमान के हैं या नहीं.

मार्च 2014 में कुआलालंपुर से बीजिंग जा रहा मलेशियाई विमान रहस्यमय तरीके से ग़ायब हो गया था. इसमें कुल 239 यात्री सवार थे.

माना जाता है कि ये विमान समुद्र में क्रैश हो गया था. लेकिन व्यापक अभियान के बावजूद इसका कोई पक्का सुराग नहीं मिला.

कोशिश

इमेज कॉपीरइट
Image caption बोइंग 777 के अवशेष रियूनियन द्वीप पर मिले

समाचार एजेंसी एएफ़पी के मुताबिक, विमान के पंख के इस हिस्से की जांच बुधवार दोपहर से शुरू हो जाएगी.

इस जांच में फ्रांस और मलेशिया के विशेषज्ञों के अलावा बोइंग के कर्मचारी और चीन के प्रतिनिधि भी हिस्सा लेंगे.

विमान हादसों की जांच करने वाली फ्रांसीसी एजेंसी बीईए के पूर्व प्रमुख ज्यां पॉल ट्रोदेक ने कहा कि ये जांच दो सवालों के जबाब ढूंढने की कोशिश करेगी- क्या ये अवशेष वाकई एमएच370 का है. और अगर हां तो क्या ये उस विमान के अंतिम क्षणों के बारे में कुछ बता सकता है?

लेकिन साथ ही उन्होंने आगाह किया कि ज़रूरी नहीं है कि जांच से किसी अहम जानकारी का पता चल ही जाए.

इस क्षेत्र में और कोई बोइंग 777 क्रैश नहीं हुआ है, इसीलिए उम्मीद की जा रही है कि ये अवशेष एमएच377 के ही हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार