क्यूबा में 54 साल बाद खुला अमरीकी दूतावास

इमेज कॉपीरइट EPA

क्यूबा की राजधानी हवाना में अमरीका ने अपना दूतावास 54 वर्ष बाद एक बार फिर खोल दिया है.

इसे दोनों देशों के रिश्तों में आई गर्माहट का संकेत माना जा रहा है.

चार जनवरी 1961 में जिन तीन पूर्व मरीन सैनिकों ने अमरीकी झंड़े को झुका दिया था उन्हीं की मदद से दूतावास पर झंड़े को फहराया गया. इस दौरान अमरीका का राष्ट्रीय गान भी बजाया गया.

गृह यु्द्ध के दौरान अमरीका ने अपने राजनयिकों को वापस बुला लिया था.

इमेज कॉपीरइट EPA

इस समारोह में अमरीका के विदेश मंत्री जॉन केरी भी शामिल हुए. वे 70 वर्ष में पहले अमरीकी विदेश मंत्री थे जो इस समारोह में हिस्सा लेने के लिए हवाना पहुंचे है.

ऐतिहासिक दिन

उनका कहना था, ''ये एक एतिहासिक दिन है उन लोगों के लिए जो दुश्मन नहीं बल्कि अब पड़ोसी हैं.''

इमेज कॉपीरइट Reuters

क्यूबा ने पिछले महीने ही वॉशिंगटन में अपना दूतावास खोला है.

इससे पहले पूर्व नेता फिदेल कास्त्रो ने एक खुला पत्र लिखा था. इस पत्र में उन्होंने लिखा था कि अमरीका के उस पर व्यापार को लेकर प्रतिबंध लगाए जाने के बाद अब करोड़ो डॉलर बकाया है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

अमरीका ने क्यूबा पर 53 वर्ष पहले प्रतिबंध लगा दिया था जो हटाया जाना है. कास्त्रों ने पत्र में दूतावास को खोलने का कोई जिक्र नहीं किया गया है.

पिछले साल ही अमरीका के राष्ट्रपति बराक ओबामा और क्यूबा के राष्ट्रपति राउल कास्त्रो के बीच राजनयिक संबंधों को सुधारने को लेकर सहमति बनी थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)