चीन में मुआवज़े के लिए प्रदर्शन

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

चीन के तियानजिन शहर में 12 अगस्त को हुए धमाकों के बाद पीड़ितों ने विरोध प्रदर्शन कर मुआवज़े की मांग की है.

धमाकों के कारण हज़ारों घरों को नुक़सान पहुंचा था, इसीलिए लोग मुआवज़ा मांग रहे हैं.

इन धमाकों में अब तक 114 लोगों की मौत हो गई थी और 70 लोग लापता बताए जा रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
इमेज कॉपीरइट Reuters

सात सौ घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

लोगों का कहना है कि रसायनों के जिस भंडार में धमाके हुए, वो ग़ैरकानूनी तरीक़े से उनके घरों के नज़दीक बनाया गया था.

कितना नुकसान हुआ?

इमेज कॉपीरइट EPA

बताया जा रहा है कि क़ानूनी अनुमति से कहीं ज़्यादा मात्रा में सोडियम सायनाइड भंडार में रखा गया था.

रसायन भंडार रिहाइशी इलाकों से पांच सौ मीटर से कम दूरी पर बनाए गए थे जबकि नियम के अनुसार यह दूरी कम से कम एक किलोमीटर होनी चाहिए.

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक़ छह हज़ार लोगों को उनके निवास स्थान से हटाया गया है.

धमाकों की वजह से 17 हज़ार घरों को नुकसान हुआ.

'सज़ा दिलाएंगे'

इमेज कॉपीरइट Reuters

चीन में विरोध प्रदर्शन कम ही होते हैं लेकिन तियानजिन धमाकों को लेकर सरकार की काफ़ी आलोचना हो रही है.

तियानजिन के डिप्टी मेयर हे शुशान ने कहा, "हम नियम और क़ानून तोड़ने के लिए ज़िम्मेदार वजहों को तलाशेंगे, उन्हें सज़ा दिलएंगे और पीड़ितों के सवालों के जवाब देंगे. "

इमेज कॉपीरइट Reuters

धमाकों की जगहों पर सफाई और आग बुझाने का काम अब भी जारी है.

सरकारी अख़बार 'पीपल्स डेली' अख़बार के मुताबिक़ अधिकारियों ने सोमवार को कहा कि खाली कराए गए इलाक़े के तीन किलोमीटर के दायरे में सायनाइड का स्तर सामान्य से 27.4 गुना ज़्यादा पाया गया.

लोग ज़हरीले रसायनों के दुष्प्रभावों से इतने डरे हुए हैं कि वो अपने घरों को लौटना नहीं चाहते.

हालांकि उनके घरों को सुरक्षित घोषित किया गया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार