समलैंगिक लेखक की 'किताब' का बहिष्कार

अमरीका में छात्रों ने ड्यूक यूनिवर्सिटी की ओर से दी गई एक किताब को पढ़ने से मना कर दिया है. इन छात्रों का मानना है कि इस किताब में यौनिकता का चित्रण उनकी धार्मिक मान्यताओं से मेल नहीं खाता.

'फ़न होम' नाम के इस उपन्यास को नॉर्थ केरोलाइना यूनिवर्सिटी ने 'साझा अनुभव कार्यक्रम' के तहत छात्रों के पढ़ने के लिए चुना.

दरअसल फ़न होम लेखक अलीसन बेकडेल की आत्मकथा है. वो एक समलैंगिक हैं और उनके पिता भी समलैंगिक थे.

छात्रों को इस किताब में सेक्स और नंगेपन के वर्णन पर ऐतराज है.

एक छात्र ब्रायन ग्रासो ने फेसबुक पर लिखा, "ईसाई होने के नाते इसे पढ़ते हुए मुझे लगा कि मेरी निजी धार्मिक और नैतिक मान्यताएं आहत हो रही हैं."

धार्मिक मान्यताओं के आधार पर किसी किताब के बहिष्कार पर बहस हो रही है.

छात्रों की ओर से असाइनमेंट के बहिष्कार से छात्रों और यूनिवर्सिटी के बीच टकराव के हालात पहले से कायम हैं.

ड्यूक में सार्वजनिक मामलों और सरकारी संबंधों के उपाध्यक्ष माइकल शोएनफेल्ड ने बताया कि ये असाइनमेंट स्वैच्छिक है और इस किताब को छात्रों और यूनिवर्सिटी के स्टाफ के एक पैनल की ओर से चुना गया है.

शोएनफेल्ड ने डेली डॉट वेबसाइट को बताया, "फ़न होम को इसलिए चुना गया क्योंकि ये बेहद खास और प्रभावित करने वाली किताब है. एक बेहतरीन शैली में लिखी गई ये किताब छात्रों के उन सवालों को उठाती है जिनसे उनका सामना होता है."

लेकिन साथ ही उन्होंने ये भी कहा, "दुनिया भर में फिलहाल 1,750 नए छात्र हैं. ऐसे में स्वाभाविक है कि ये किताब उनमें से कुछ छात्रों की सोच से मेल नहीं खाती हो."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार