एबट की सलाह, नौकाओं को रोके यूरोप

इमेज कॉपीरइट EPA

ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री टोनी एबट ने कहा है कि यूरोप में गहराता शरणार्थी और प्रवासी संकट इस बात का प्रमाण है कि शरण को लेकर अधिक कड़ी नीतियों की ज़रूरत है.

उन्होंने ऑस्ट्रेलियाई मीडिया से बातचीत में कहा कि समंदर में लोगों को मरने से रोकने का इकलौता तरीक़ा यही है कि नौकाओं को रोका जाए.

एबट का ये बयान ऐसे समय में आया है जब मध्य पूर्व से जा रहे हज़ारों प्रवासियों को लेकर यूरोपीय नेताओं के बीच मतभेद खुल कर सामने आ रहे हैं.

नौकाओं पर सवार होकर बड़ी संख्या में यूरोप पहुँच रहे लोगों के कारण वहां एक संकट पैदा हो रहा है.

इमेज कॉपीरइट AP

इस साल लगभग ढाई हज़ार लोग समंदर में डूब कर मर चुके हैं.

एबट ने एबीसी रेडियो से कहा, "अगर आप मौतों को रोकना चाहते हैं, अगर आप लोगों को डूबने से रोकना चाहते हैं तो आपको नौकाओं को रोकना होगा."

ऑस्ट्रेलिया ने इस बात से इनकार किया है कि प्रवासी नावों के ज़रिए उसके तट तक पहुँच रहे हैं.

इन लोगों में बड़ी संख्या सीरिया जैसे संकटग्रस्त देशों के लोगों की है जहां से लोग जान बचाकर भाग रहे हैं.

वहीं बेहतर जिंदगी की तलाश में यूरोप का रुख़ करने वाले लोगों में पाकिस्तान जैसे कुछ दक्षिण एशियाई देशों के लोग भी शामिल हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)