फ़िनलैंड के प्रधानमंत्री प्रवासियों को देंगे अपना घर

यूहा सीपिला इमेज कॉपीरइट Getty

फ़िनलेंड के प्रधानमंत्री यूहा सीपिला ने प्रवासियों को अपने घर में रहने का न्यौता दिया है.

प्रधानमंत्री सीपिला ने फ़िनलैंड के प्रसारणकर्ता वाईएलई से शनिवार को कहा कि उनके परिवार के पास मध्य फ़िनलैंड में एक घर है जो अगले साल की शुरुआत से प्रवासियों के लिए उपलब्ध हो सकता है.

प्रधानमंत्री ने फ़िनलैंड के नागरिकों से भी प्रवासियों के साथ एकजुटता दिखाने के लिए कहा है.

पिछले महीने फ़िनलैंड के आंतरिक मंत्रालय ने कहा था कि उन्हें पंद्रह हज़ार लोगों के शरण के लिए आवेदन करने की उम्मीद है.

ये पिछले साल के अनुमान से दस हज़ार ज़्यादा है.

प्रधानमंत्री सीपिला ने कहा कि यूरोपीय संघ का ग्रीस, इटली और हंगरी पहुँचे एक लाख बीस हज़ार प्रवासियों को संघ के देशों में बांटने की योजना स्वेच्छा से लागू होनी चाहिए और फ़िनलैंड इसके लिए अच्छा उदाहरण हो सकता है.

इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption मध्यपूर्व और अफ़्रीका के संकट क्षेत्रों से प्रवासी यूरोप पहुँच रहे हैं.

क्या है प्रवासी संकट

मध्य पूर्व और अफ़्रीका से रोज़ाना सैकड़ों की तादाद में पहुंच रहे प्रवासियों से यूरोपीय संघ के देश दबाव में हैं.

अंतरराष्ट्रीय प्रवासी संगठन के मुताबिक़, वर्ष 2015 में जनवरी से अगस्त के बीच 3,50,000 प्रवासियों की पहचान की गई.

बीते साल 2,80,000 प्रवासियों की शिनाख़्त हुई थी.

सीरिया और अफ़ग़ानिस्तान में राजनीतिक संकट और इरिट्रिया में ख़राब हालात इसकी मुख्य वजहें हैं.

इस दौरान 2,600 प्रवासी भूमध्य सागर पार करने की कोशिश में डूबकर मर गए. कई लोग मानव तस्करों, डाकुओं और अन्य क्रूर लोगों के शिकार बन जाते है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार