‘बीबीसी के सामने अवसर और चुनौतियाँ दोनों हैं’

बीबीसी के महानिदेशक टोनी हॉल ने अगले एक दशक के लिए संस्था की योजना पेश करते हुए कहा कि बीबीसी 'इंटरनेट के युग के लिए खुला बीबीसी' बनेगा.

बच्चों के लिए आईप्लेयर और स्थानीय अख़बारों के साथ मिलकर काम करने की भी योजना है.

लॉर्ड हॉल ने अगले साल बीबीसी का चार्टर रिन्यू होने से पहले ये योजना पेश की है.

बीबीसी चार्टर वो दस्तावेज़ है जिसके तहत बीबीसी की स्थापना हुई है और इसमें संस्थान की संपादकीय स्वतंत्रता और इसकी सामाजिक ज़िम्मेदारियों का विस्तार से ब्यौरा है.

इस चार्टर को हर दस साल में रिन्यू किया जाता है.

'खुला ऑनलाइन मंच'

बीबीसी महानिदेशक ने कहा कि बीबीसी के सामने चुनौतियां और अवसर दोनों ही मौजूद हैं.

उन्होंने 'बिना किसी अहंकार के उत्कृटष्ता' हासिल करने की अहमियत पर ज़ोर दिया और कहा कि इसका ये मतलब नहीं है कि बीबीसी का आकार बढ़ेगा.

इमेज कॉपीरइट PA

हालांकि उन्होंने ये भी कहा कि फ़ंडिंग में कटौती के कारण कुछ सेवाओं को बंद करने या उनकी गतिविधियों में कमी करने से बचना मुश्किल है, लेकिन उन्होंने ये नहीं बताया कि बीबीसी में कहाँ कटौती की जाएगी.

नई पहलों में एक आइडियाज़ सर्विस बनाना भी शामिल है, जो टोनी हॉल के मुताबिक़ 'खुला ऑनलाइन मंच' होगा और इसमें गैलरियों, संग्राहलयों और विश्वविद्यालयों के साथ साथ खुद बीबीसी की भी सामग्री होगी.

नई सेवाएं

उन्होंने कहा, "बीबीसी एक क्यूरेटर के तौर पर ब्रितानी सांस्कृतिक संस्थानों और विचारकों सबके सामने पेश करेगा."

बीबीसी की नई योजना में उत्तर कोरिया के लिए रोज़ाना समाचारों का एक कार्यक्रम शुरू करने के अलावा रूस, भारत और मध्य-पूर्व के लिए प्रसारण बढ़ाना भी शामिल है.

वहीं इथियोपिया और इरिट्रिया के लिए मीडियम वेव और शॉर्ट वेव पर एक नई रेडियो सेवा शुरू की जाएगी.

इमेज कॉपीरइट PA

इसके अलावा बीबीसी वेबसाइट की समीक्षा होगी ताकि ये सुनिश्चित किया जा सके कि ये ऑनलाइन प्रसारण सामग्री के साथ अपनी अलग पहचान बनाए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)