प्रवासी मुद्दे पर हंगरी और क्रोएशिया में ठनी

प्रवासी इमेज कॉपीरइट

क्रोएशिया का कहना है कि वह प्रवासियों को स्वीकार करने के लिए हंगरी को 'बाध्य' करेगा.

क्रोएशिया के प्रधानमंत्री ज़ोरान मिलानोविक के इस बयान से प्रवासियों को लेकर जारी खींचतान में तनाव और बढ गया है.

हंगरी ने आरोप लगाया है कि क्रोएशिया ने प्रवासियों को रजिस्टर नहीं करके अंतरराष्ट्रीय क़ानून का उल्लंघन किया है.

क्रोएशिया ने प्रवासियों को हंगरी भेजना शुरू किया

इमेज कॉपीरइट

क्रोएशिया का कहना है कि बुधवार से 20 हज़ार से अधिक प्रवासी उसकी सीमा में दाखिल हो चुके हैं.

हंगरी के अधिकारियों का कहना है कि लगभग 8000 प्रवासी शुक्रवार को हंगरी पहुंच गए थे.

क्रोएशिया ने प्रवासियों को बसों में भरकर हंगरी भेजा है जिन्हें हंगरी ने ऑस्ट्रिया रवाना कर रहा है.

ऑस्ट्रिया की पुलिस का कहना है कि 6700 प्रवासी आधी रात के बाद उसकी सीमा में दाखिल हो चुके हैं.

क्रोएशिया में पुलिस के साथ प्रवासियों की झड़पें

इमेज कॉपीरइट

यूरोपीय संघ में प्रवासी संकट से निपटने के तौर-तरीकों पर पहले से ही मतभेद थे और अब क्रोएशिया के रवैये की वजह से असमंजस्य की स्थिति और गंभीर हो गई है.

हंगरी में प्रवासियों पर पुलिस कई बार आंसू गैस के गोले दाग़ चुकी है. स्लोवेनिया में भी प्रवासियों की पुलिस के साथ झड़प हो चुकी है.

ज़्यादातर प्रवासी मध्यपूर्व और अफ्रीका के देशों में लगातार चल रहे युद्ध और गरीबी से बच कर भागे हैं और वे जर्मनी और स्कैंडेनेवियाई देशों में जाना चाहते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार