खुलकर गाइए 'हैप्पी बर्थ डे', कॉपीराइट ख़त्म

जन्मदिन का केक

अमरीका के एक जज ने फैसला दिया है कि लोकप्रिय गीत 'हैपी बर्थडे टू यू' के लिए रॉयल्टी लेने वाली कंपनी का कॉपीराइट मान्य नहीं है.

इस गाने का कॉपीराइट मूलतः 1935 में दायर किया गया था जिसे 1988 में वार्नर एंड चैपल कंपनी ने हासिल किया.

लेकिन जज जॉर्ज किंग के फ़ैसले के मुताबिक, मूल कॉपीराइट इस गाने की खास संगीतव्यवस्था के लिए दिया गया था, न कि पूरे गीत के लिए.

इस गीत की धुन कैंटकी की दो बहनों ने 1893 में तैयार की थी.

'गुडमॉर्निंग टू ऑल'

मिल्ड्रेड ऐंड पैटी हिल नाम की इन दो बहनों ने इस गीत के मूल रूप को 'गुडमॉर्निंग टू ऑल' नाम दिया था जो बाद में धीरे-धीरे अपने आधुनिक रूप में विकसित हुआ.

इमेज कॉपीरइट university of louisville
Image caption 'हैपी बर्थडे' गीत की मूल नोटेशन की धुन

अब ये पूरी दुनिया में जन्मदिन के समारोहों में गाया जाता है.

वार्नर/चैपल के खिलाफ ये केस 2013 में रूपा मार्या और रॉबर्ट सीगल ने दायर किया था. रूपा और रॉबर्ट इस गीत पर एक फिल्म बना रहे हैं.

फिल्म में इस गाने को इस्तेमाल करने के लिए संगीत रिलीज़ करने वाली कंपनी ने फिल्म निर्माताओं से 15,00 डॉलर मांगे थे.

तब रूपा मार्या और रॉबर्ट सीगल ने दलील दी कि ये गाना तो सार्वजनिक तौर पर इस्तेमाल होता है, इसलिए इस पर कॉपीराइट फ़ीस नहीं लगनी चाहिए.

गीत के बोल पर कॉपीराइट नहीं

जज किंग ने अपने फैसले में कहा है कि समी ऐंड कंपनी ने इस गीत के बोल पर कभी कॉपीराइट हासिल नहीं किया था.

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

जज ने कहा कि हिल बहनों ने समी ऐंड कंपनी को धुन के अधिकार और इस पर आधारित प्यानो अरेंजमैंट्स के अधिकार बेचे थे, गीत के अधिकार कभी नहीं बेचे गए.

बाद में, 80 के दशक में ये अधिकार वार्नर/चैपल ने खरीद लिए.

तब से वार्नर/चैपल ने इस गाने के फिल्म, विज्ञापन या टेलिविजन सीरियल में इस्तेमाल पर करीब बीस लाख डॉलर हर साल कमाए हैं.

इस फैसले की घोषणा के बाद वार्नर/चैपल ने कहा कि वे अदालत के फ़ैसले का अध्ययन कर रहे हैं और इस स्थिति से निपटने के विकल्पों के बारे में विचार कर रहे हैं .

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार