'हज हादसे की ज़िम्मेदारी ले सऊदी सरकार'

हज भगदड़ इमेज कॉपीरइट AP

हज के दौरान हुई भगदड़ में मौतों को लेकर कई देशों ने सऊदी अरब सरकार की कड़ी आलोचना की है.

गुरुवार को मीना में शैतान को कंकड़ मारने की रस्म के दौरान मची भगदड़ में 717 लोगों की मौत हो गई थी और 863 लोग घायल हो गए थे.

ईरान की सर्वोच्च राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद के प्रवक्ता केवान ख़ोसरावी ने समाचार एजेंसी इसना से कहा,"इस बात को नज़रअंदाज़ नहीं किया जा सकता कि इस मामले में सऊदी सरकार अयोग्य साबित हुई है. रियाध को हादसे की ज़िम्मेदारी लेनी चाहिए."

'तो टल सकता था हादसा'

इमेज कॉपीरइट EPA

उधर, सऊदी अरब के स्वास्थ्य मंत्री ख़ालेद-अल-फलीह ने एख़बारिया टीवी से कहा कि अगर हाजियों ने निर्देशों का पालन किया होता तो हादसा टल सकता था.

इस बीच, सऊदी अरब के किंग सलमान ने हज यात्रियों की सुरक्षा की समीक्षा का आदेश दिया है.

इमेज कॉपीरइट AFP

ईरान में तीन दिन के राष्ट्रीय शोक की घोषणा की गई है.

भगदड़ में ईरान के 131, भारत के 14 , मिस्र के आठ, पाकिस्तान के छह, नाइजीरिया के तीन और तुर्की के चार हज यात्रियों की मौत हो गई थी.

हज कमेटी के अध्यक्ष सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन नायेफ़ ने हादसे की जांच के आदेश दिए हैं.

'हाजियों पर ना डालें ज़िम्मेदारी'

इमेज कॉपीरइट AFP

नाइजीरिया के हज समूह के प्रमुख अमीर कानो मोहम्मद सैनसुई द्वितीय ने कहा कि घटनास्थल पर आने और निकलने वालों के लिए रास्ते एक दूसरे को काटते हुए बनाए गए थे, इसलिए सऊदी सरकार हाजियों पर हादसे की ज़िम्मेदारी न डाले.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार