उंगलियां खो चुके जापानी ने छोड़ा एवरेस्ट अभियान

नोबूकाजू कुरिकी इमेज कॉपीरइट Reuters

ठंड में फ़्रॉस्टबाइट के कारण अपनी नौ उंगलियां गंवाने वाले जापानी पर्वतारोही को माउंट एवरेस्ट पर चढ़ने का अभियान अंतिम क्षणों में छोड़ना पड़ा है.

नोबूकाजू कुरिकी ने अपने फ़ेसबुक पेज पर लिखा, "मैंने पूरी ताक़त के साथ कोशिश की लेकिन बर्फ पर चलने में काफ़ी समय लग गया. मुझे लगा कि अगर मैं ऐसे ही चलता रहा तो जिंदा वापस नहीं जा पाऊंगा."

33 साल के कुरिकी ने 8848 मीटर ऊंची चोटी के क़रीब पहुंचकर इस अभियान को छोड़ने का फ़ैसला किया.

वह नेपाल में अप्रैल में आए विनाशकारी भूकंप के बाद एवरेस्ट पर चढ़ने की कोशिश करने वाले पहले पर्वतारोही हैं.

पांचवां प्रयास

इमेज कॉपीरइट Scinece Photo Library

पिछले छह साल में यह पांचवां मौका है जब कुरिकी ने एवरेस्ट पर चढ़ने का प्रयास किया.

साल 2012 में उन्हें दो दिन 8230 मीटर की ऊंचाई पर बर्फ की दरार में गुजारने पड़े थे जिसके बाद उन्हें अपनी नौ उंगलियां गंवानी पड़ी थी. तापमान उस समय शून्य से 20 डिग्री कम था.

उन्होंने लिखा है कि शनिवार को आख़िरी शिविर से निकलने के बाद अभियान को छोड़ने का फ़ैसला किया.

कुरिकी ने समर्थन के लिए अपने सभी फॉलोवर्स को धन्यवाद दिया.

वह उसी रास्ते से एवरेस्ट पर चढ़ने की कोशिश कर रहे थी जिसके सहारे एडमंड हिलेरी और तेनज़िंग नोर्गे ने 1953 में पहली बार इसे फतह किया था.

वे सर्दियों में एवरेस्ट पर जाना पसंद करते हैं और वो भी सुरक्षा के लिए कम से कम सामान के साथ.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार