'सीरिया पर सहयोग न करना बड़ी भूल'

व्लादिमीर पुतिन इमेज कॉपीरइट EPA

रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने संयुक्त राष्ट्र की महासभा में कहा है कि इस्लामिक स्टेट चरमपंथियों के ख़िलाफ़ लड़ाई में सीरिया की सरकार की मदद न करना एक बड़ी भूल है.

उन्होंने कहा कि रूस संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के मौजूदा अध्यक्ष के रूप में इस्लामिक स्टेट और अन्य चरमपंथी समूहों के ख़िलाफ़ लड़ रहे सभी देशों के बीच समन्वय का प्रस्ताव रखेगा.

इससे पहले अपने संबोधन में अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने भी सीरिया में चल रहे लंबे गृह युद्ध को समाप्त करने के लिए समझौता करने की बात कही.

ओबामा ने कहा कि सीरिया संघर्ष को समाप्त करने के लिए अमरीका, रूस और ईरान समेत किसी भी देश के साथ मिलकर काम करने के लिए तैयार है.

इमेज कॉपीरइट AFP

उन्होंने कहा कि दरअसल, ज़रूरत यह है कि बशर अल असद से सत्ता का कामयाब हस्तांतरण हो.

ओबामा ने असद पर अपने नागरिकों के ख़िलाफ़ रसायनिक हथियार इस्तेमाल करने और उन पर अंधाधुंध बमबारी करने के आरोप भी लगाए.

ओबामा ने रूस से यूक्रेन संकट को कूटनीति के ज़रिए हल करने और अपनी आक्रमणकारी नीतियों से पीछे हटने का आह्वान भी किया.

उन्होंने सभी सदस्य देशों से संघर्ष की बजाए सहयोग को तरजीह देने का आह्वान करते हुए ईरान और क्यूबा में कूटनीति की कामयाबी का उदाहरण भी दिया.

ओबामा ने यह भी कहा कि उन्हें भरोसा है कि अमरीकी संसद क्यूबा पर पचास साल पहले लगाए गए आर्थिक प्रतिबंध हटाने पर राज़ी हो जाएगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार