आईएस से जुड़े लोगों और संगठनों पर प्रतिबंध

सीरिया इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption अमरीका इसलामिक स्टेट जैसे संगठनों के खिलाफ समर्थन हासिल करना चाहता है

अमरीका ने कहा है कि वह इस्लामिक स्टेट से जुड़ी संस्थाओं और व्यक्तियों पर नए प्रतिबंध लगा रहा है ताकि आईएस के वित्तीय स्रोत खत्म हो जाएं.

अमरीका ने चार ब्रितानी और तीन फ्रांसीसी नागरिकों समेत कुछ लोगों और समूहों को विदेशी चरमपंथी लड़ाकों की श्रेणी में शामिल किया.

ये घोषणा उसी दिन हुई जब अमरीका के राष्ट्रपति ओबामा ने न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र महासभा के अंत में आईएस से निपटने के लिए एक सम्मेलन का आयोजन किया.

इमेज कॉपीरइट Reuters

राष्ट्रपति ओबामा ने कहा कि आईएस को सीरिया में हराना तभी संभव हो पाएगा अगर राष्ट्रपति बशर अल असद सत्ता छोड़ दें.

अमरीका ने कुल 35 लोगों और संगठनों पर विदेशी चरमपंथी लड़ाके होने के लिए प्रतिबंध और जुर्माना लगाया है.

रूस की आलोचना

इमेज कॉपीरइट Getty

जिन लोगों को विदेशी चरमपंथी लड़ाके घोषित किया गया है वे रूस, फ्रांस और ब्रिटेन के नागरिक हैं.

रूस, जो इस महीने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद का अध्यक्ष है, वह चरमपंथ से निपटने के लिए अपनी बैठक भी आयोजित कर रहा है

मंगलवार को रूस ने संयुक्त राष्ट्र में अमरीका के चरमपंथ विरोधी सम्मेलन की ये कह कर आलोचना की थी कि इस सम्मेलन का मतलब है खुद संयुक्त राष्ट्र के इस दिशा में किए गए प्रयासों को कमतर आंकना.

इसके अलावा फ्रांस के विदेश मंत्री ने कहा कि रूस ने आईएस पर हमला करने की बात तो बहुत की है लेकिन अभी तक इस संगठन के खिलाफ़ कोई ठोस कदम नहीं उठाया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार