सीरिया में आईएस ठिकानों पर फिर से रूसी हमले

सीरिया रूसी हमले इमेज कॉपीरइट SYRIA REBELS GATHERING

रूसी लड़ाकू विमानों ने दूसरे दिन भी सीरिया में हवाई हमले किए हैं.

रूस के अनुसार उसने पिछले 24 घंटों में चरमपंथी संगठन इस्लामिक स्टेट(आईएस) के 12 ठिकानों पर हमले किए हैं.

गुरूवार को रूसी विमानों ने होम्स और हमा प्रांत के अलावा देश के उत्तर-पश्चिमी इलाक़ों में मौजूद विद्रोहियों के ठिकानों को निशाना बनाया.

उधर अमरीका और रूस के उच्चाधिकारियों ने कहा है कि सीरिया में मौजूद अमरीकी और रूसी सैनिकों के बीच किसी भी टकराव से बचने के लिए दोनों देशों के सैन्य अधिकारी आपस में बातचीत करेंगे.

रूस के रक्षा अधिकारियों ने कहा है कि रूसी लड़ाकू विमानों ने बुधवार को चरमपंथी संगठन इस्लामिक स्टेट के ख़िलाफ़ करीब 20 हवाई हमले किए.

लेकिन अमरीका ने आशंका जताई है कि रूस जिन ठिकानों पर हमले कर रहा है वो इस्लामिक स्टेट के नहीं हैं बल्कि सीरिया के राष्ट्रपति बशर अल-असद के दूसरे विरोधियों के हैं.

रूसी विदेश मंत्री सर्गेई लावरॉव ने कहा है कि अनचाही घटनाओं को टालने के लिए संवाद स्थापित करना ज़रूरी है.

अमरीकी विदेश मंत्री जॉन केरी ने भी कहा है कि जल्द से जल्द बातचीत शुरू की जाएगी. केरी के अनुसार गुरूवार को दोनों देशों के अधिकारियों के बीच बातचीत शुरू हो सकती है.

सीरिया में चार साल से चल रहे गृह युद्ध में असद सरकार के ख़िलाफ़ कई संगठन लड़ रहे हैं.

'आग में घी डालने' का रवैया

इमेज कॉपीरइट SYRIA REBELS GATHERING

अमरीकी रक्षा मंत्री एशटन कार्टर ने कहा है कि रूस का रवैया 'आग में घी डालने' जैसा है और ये अभियान असफल होगा क्योंकि बशर अल-असद के विरोधियों की संख्या काफ़ी ज़्यादा है.

न्यूयॉर्क टाइम्स अख़बार और वॉलस्ट्रीट जनरल की रिपोर्ट के मुताबिक़ रूस उन विद्रोहियों पर हमले कर रहा है जिन्हें अमरीका का समर्थन मिला है. बताया जा रहा है कि इनमें से कुछ को सीआईए ने ट्रेनिंग दी है.

असद पर आमने-सामने

इमेज कॉपीरइट Reuters

अमरीका असद को पद से हटाने की हिमायत करता रहा है वहीं रूस असद का समर्थन करता रहा है.

रूस के रक्षा मंत्रालय ने कहा है कि उसकी वायुसेना ने इस्लामिक स्टेट के सैन्य साज़ो-सामान को निशाना बनाया है ना कि नागरिक स्थानों पर हमले किए हैं.

इस पर सीरिया के विपक्षी कार्यकर्ताओं का कहना है कि रूस ने तालबीसेह और रस्तान और ज़ाफरानेह शहरों पर हमले किए हैं जिनमें 36 लोगों की मौत हो गई है जिनमें कई बच्चे भी शामिल हैं.

उनके अनुसार इनमें से कोई भी इलाक़ा ऐसा नहीं है जिस पर आईएस का नियंत्रण है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार