बेलारूस की लेखिका को नोबेल साहित्य पुरस्कार

स्वितलाना एलेक्सियावित्ज़ इमेज कॉपीरइट Reuters

इस साल के साहित्य में नोबेल पुरस्कार की घोषणा हो गई है. स्वेतलाना एलेक्सियाविच को यह पुरस्कार महिलाओं के संघर्ष और साहस पर उनके लेखन के लिए दिया गया है.

67 साल की स्वेतलाना राजनीतिक लेखिका के रूप में जानी जाती हैं और पहली पत्रकार भी हैं जिन्हें इस पुरस्कार से नवाज़ा गया है.

इससे पहले साहित्य का नोबेल पुरस्कार रुडयार्ड किपविंग, अर्नस्ट हेमिंगवे और पेट्रिक मोडियानो के दिया गया है.

इस पुरस्कार के अंतर्गत उन्हें 80 लाख क्रोनर मिलेंगे.

स्वेतलाना एलेक्सियाविच का जन्म 31 मई 1948 में यूक्रेन के इवानो-फ्रेंकिविस्क में हुआ था. बाद में वे अपने परिवार के साथ बेलारूस चली गईं थीं. वे फ़िलहाल बेलारूस में ही रहती हैं.

महिलाओं के लिए लिखा

इमेज कॉपीरइट Other

उनकी पहली पुस्तक थी द्वितीय विश्व युद्ध पर जिसका का नाम था ''द अनवोमनली फ़ेस ऑफ़ द वॉर' (युद्ध का स्त्री विरोधी चेहरा).

इसमें उन्होंने उन हज़ारों रूसी महिलाओं के संघर्ष और पीड़ा का ज़िक्र किया है जिन्होंने युद्ध में हिस्सा लिया.

उन्होंने इस किताब के ज़रिए कहा है कि रूस की जीत का श्रेय उन महिलाओं को नहीं मिल पाया.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption चर्नोबिल परमाणु संयंत्र के सामने बनाया गया मेमोरियल

उनकी लिखी कई बहुचर्चित पुस्तकों में एक है ''द चर्नोबिल प्रेयर- क्रोनिकल्स ऑफ़ द फ़्यूचर'' (चर्नोबिल की प्रार्थना- भविष्य के लिए एक राह) में वे कहती हैं कि हम एक ऐसे दौर में प्रवेश कर चुके हैं जहां अनजान और नई आपदाओं से बच पाना मुश्किल है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार