आईएस अलेप्पो से महज़ 10 किलोमीटर दूर

फ़्री सीरियन आर्मी इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption सीरियाई विद्रोही गुट के लड़ाके इस्लामिक स्टेट से मुक़ाबले से पहले अपने हथियार जांचते हुए.

रूस और अमरीका के हवाई हमलों के बावजूद इस्लामिक स्टेट ने सीरिया के दूसरे बड़े शहर अलेप्पो के नज़दीक के कई गांवों पर क़ब्ज़ा कर लिया है.

रूस का कहना है कि बीते चौबीस घंटों में उसके हवाई हमलों में तीन सौ चरमपंथियों की मौत हो गई है.

लेकिन इलाक़े में मौजूद बीबीसी संवाददाता का कहना है कि रूस अन्य विद्रोही गुटों को निशाना बना रहे है जिससे इस्लामिक स्टेट को आगे बढ़ने में मदद मिल रही है.

सीरिया की सेना की ओर से लड़ रहे ईरान के रिवोल्यूशनरी गॉर्ड के एक कमांडर भी मारे गए हैं.

ईरान ने जनरल हुसैन हमदानी की गुरुवार को हुई मौत के लिए इस्लामिक स्टेट को ज़िम्मेदार बताया है.

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption इस्लामिक स्टेट के लड़ाके पहली बार अलेप्पो के इतने क़रीब पहुँचे हैं.

हालांकि अभी यह स्पष्ट नहीं है कि जनरल हमदानी की मौत किन हालातों में हुई.

सीरिया पर निगरानी रखने वाले लंदन स्थित समूह सीरियन ऑब्ज़रवेटरी फ़ॉर ह्यूमन राइट्स का कहना है कि शुक्रवार को इस्लामिक स्टेट ने अलेप्पो के उत्तरी इलाक़ों में बढ़त हासिल की.

इस दौरान हुई हिंसक झड़पों में दोनों ओर से दर्जनों लड़ाके मारे गए हैं.

समूह से जुड़े रमी अब्दल रहमान ने समाचार एजेंसी एएफ़पी को बताया कि इस्लामिक स्टेट ने कई गांवों और एक सैन्य अड्डे से विद्रोही लड़ाकों को खदेड़ दिया है.

इमेज कॉपीरइट
Image caption जनरल हुसैन हमदानी गुरुवार को सीरिया में मारे गए. अभी ये स्पष्ट नहीं है कि उनकी मौत किन हालातों में हुई है.

समूह का कहना है कि इस समय इस्लामिक स्टेट अलेप्पो की उत्तरी हिस्से से सिर्फ़ दस किलोमीटर और पास ही ओद्योगिक क्षेत्र में तैनात सीरियाई सैन्यबलों से सिर्फ़ तीन किलोमीटर दूर है.

अलेप्पो सीरिया का दूसरा सबसे बड़ा शहर है और इस्लामिक स्टेट कभी भी इसके इतना क़रीब नहीं आया था.

गुरुवार को सीरिया में मारे गए ईरानी जनरल हुसैन हमदानी पर 2009 में ईरान में हुए राष्ट्रपति चुनावों के दौरान प्रदर्शनकारियों का दमन करने के लिए यूरोपीय संघ ने प्रतिबंध लगाए थे.

सीरिया में अब तक कई शीर्ष ईरानी कमांडर मारे जा चुके हैं.

ईरान राष्ट्रपति बशर अल असद की सेनाओं को रणनीतिक मदद दे रहा है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार