लीबिया में बनेगी राष्ट्रीय एकता सरकार!

लीबिया में संयुक्त राष्ट्र दूत बर्नाडिनो लियोन इमेज कॉपीरइट AP

महीनों चली जटिल बातचीत के बाद लीबिया में राष्ट्रीय एकता सरकार बनने का रास्ता साफ़ हो गया है.

लीबिया में संयुक्त राष्ट्र के प्रतिनिधि बर्नार्डिनो लियोन ने मोरक्को में इसका ऐलान करते हुए कहा कि फ़ाएज़़ सराज नई सरकार के प्रधानमंत्री होंगे.

साल 2014 से ही लीबिया में दो परस्पर विरोधी सरकारें काम कर रही हैं.

एक सरकार राजधानी त्रिपोली में है जो इस्लामियों के समर्थन से चल रही है, दूसरी देश के पूर्वी हिस्से पर काबिज़ है जिसे अंतरराष्ट्रीय मान्यता हासिल है और यह टोबरुक से संचालित है.

'नई सरकार का कोई मतलब नहीं'

इमेज कॉपीरइट AP

राष्ट्रीय सरकार में तीन उप-प्रधानमंत्री होंगे जो पूर्व, पश्चिम और दक्षिण लीबिया का प्रतिनिधित्व करेंगे.

एकता सरकार के प्रस्ताव का विरोध अभी से शुरू हो गया है.

त्रिपोली स्थित जनरल नेशनल कांग्रेस (जीएनसी) के अब्दुलसलाम बिलाशहीर ने बीबीसी से कहा, "हम इस प्रस्तावित सरकार में शामिल नहीं होंगे. हमारे लिए इसका कोई मायने नहीं है और हमसे कोई राय मशविरा नहीं किया गया था."

इमेज कॉपीरइट Reuters

दूसरी ओर, इनके विरोधी टोबरुक स्थित प्रतिनिधि सभा के इब्राहिम अलज़गियात ने कहा, "प्रस्तावित सरकार की वजह से देश का बंटवारा हो जाएगा और यह एक मज़ाक बन कर रह जाएगा. लियोन की पसंद समझदारी भरी नहीं है."

उत्तरी अफ्रीका के बीबीसी संवाददाता राणा जव्वाद ने कहा कि इस प्रस्ताव पर लंबी बातचीत होनी है. उसके बाद ही विरोधी पक्ष यह तय करेंगे कि वे इस गंठबंधन सरकार का समर्थन करें या नहीं.

मानवीय सहायता की ज़रूरत

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption तत्कालीन ब्रिटिश प्रधानमत्री टोनी ब्लेअर के साथ मुअम्मर गद्दाफ़ी.

फ़ाएज़़ सराज ने उम्मीद जताई है कि अब लीबिया के हालात सुधरेंगे. लंबे वक़्त से चल रहे संघर्ष की वजह से सैंकड़ों लोगों की मौत हो चुकी है. वहां फ़िलहाल 24 लाख लोगों को मानवीय सहायता की ज़रूरत है.

साल 2011 में मुअम्मर गद्दाफी के सत्ता से हटाए जाने के बाद से ही लीबिया के हालात ख़राब होते चले गए, जिससे कई चरमपंथी गुटों ने वहां अपना स्थिति मजबूत कर ली.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार