सीमा पर ठंड और बारिश में फंसे प्रवासी

इमेज कॉपीरइट AP

बालकन स्टेट की तरफ से पश्चिमी यूरोप की ओर बढ़ रहे प्रवासियों की परेशानी बढ़ती ही जा रही है.

हंगरी की तरफ से सीमा बंद करने के बाद क्रोएशिया से प्रवासी स्लोवेनिया में दाख़िल हो रहे हैं.

क्रोएशिया ने पड़ोसी देश स्लोवेनिया से कहा था कि वो रोज पांच हजार प्रवासियों को अपनी सीमा में दाखिल होने दे.

लेकिन स्लोवेनिया ने केवल इसकी आधी संख्या में प्रवासियों को अपने यहां आने की इजाजत दी है.

इससे स्लोवेनिया से लगे क्रोएशिया सीमा पर लोग बड़ी संख्या में जमा हो गए हैं. इन प्रवासियों को रात भर ठंड और बारिश में इंतजार करने को मजबूर होना पड़ा.

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption सर्बिया और क्रोएशिया के बीच फंसा एक परिवार
इमेज कॉपीरइट AP
Image caption स्लोवेनिया ने क्रोएशिया की बात मानने से इंकार कर दिया है.
इमेज कॉपीरइट AP
Image caption शरण की तलाश में निकले प्रवासी बारिश और ठंड से बेहाल
इमेज कॉपीरइट AP
Image caption सोमवार को क्रोएशिया सीमा पर इंतजार करते प्रवासी

निराश प्रवासियों और पुलिस अधिकारियों के बीच गुस्सा भड़क उठा है.

हजारों की तादाद में शरणार्थी ऑस्ट्रिया, जर्मनी और यूरोपीय संघ के दूसरे राज्यों में पहुंचने के लिए बाल्कन से होकर सफर कर रहे हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार