भूकंप का भयावह मंज़र..जब ज़मीन धंसने लगी

इमेज कॉपीरइट Getty

अफ़ग़ानिस्तान और पाकिस्तान में भूकंप के दौरान और बाद में कई जगहों पर लोगों ने भयावह मंज़र बयान किए हैं.

पाकिस्तान के गिलगित-बालतिस्तान इलाके के करीमाबाद के एक युवक अनस ने बीबीसी को बताया कि उनके इलाके में भूकंप आने के बाद बड़े पैमाने पर ज़मीन धंसने लगी.

अनस ने कहा, "पहली बार तो यही लगा कोई हमें हिला रहा है. हम 20 लोग थे. ऐसे में हमने एक दूसरे को पकड़ लिया. इसके तुरंत बाद बड़े पैमाने पर ज़मीन धंसने लगी. कुछ लोगों ने कहा कि ग्लेशियर आ गया. जबकि कुछ ने कहा कि ये तो पहाड़ है. यह सब हमारी आंखों के सामने हुआ."

पाकिस्तान की अफग़ानिस्तान से सटी सीमा पर नुकसान ज़्यादा हुआ है. वहां से आने वाली तस्वीरों से पता चलता है कि कई मकान ढ़ह गए हैं, जबकि कई बाज़ारों में भी काफी नुकसान दिखा जा सकता है.

अफ़ग़ानिस्तान के डिप्टी लीडर अब्दुल्ला अब्दुल्ल के मुताबिक यह भूकंप हाल के दशक का सबसे भयानक है और इसमें हताहत होने वालों की संख्या काफी बढ़ सकती है.

इमेज कॉपीरइट AP

अफ़ग़ानिस्तान में जिन लोगों की मौत हुई है, उनमें 12 स्कूली छात्राएँ भी शामिल हैं जो अपने स्कूल की इमारत से निकलने की कोशिश करते वक्त भगदड़ की चपेट में आ गईं.

यह हादसा अफ़ग़ानिस्तान के टखार प्रांत के तलुकान में हुआ है. इस राज्य के गवर्नर के प्रवक्ता सुनातुल्लाह तिमोर ने बीबीसी को बताया कि इस हादसे में 25 अन्य छात्र घायल भी हुए हैं.

टाखर प्रांत के शिक्षा विभाग के मुखिया इनायत नाविद ने समाचार एजेंसी एएफपी को बताया, "बच्चों के इमारत से बाहर निकलने की कोशिश के दौरान भगदड़ मची. मरने वाले सभी बच्चे थे."

इमेज कॉपीरइट Reuters

पाकिस्तान की सीमा से सटे नानगरहार प्रांत के स्थानीय अस्पताल के प्रमुख नजीब कामावाल ने समाचार एजेंसी एएफ़पी को बताया कि इलाके में छह लोगों की मौत हुई है जबकि 69 लोग घायल हुए हैं.

वहीं समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक श्रीनगर से 55 किलोमीटर दूर सोपोर में सेना के एक बंकर के क्षतिग्रस्त होने से दो सैनिक घायल हो गए हैं.

भारत से फ़िलहाल इस भूकंप के कारण किसी के मरने की कोई ख़बर नहीं है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)