प्रोसेस्ड मीट खाना सिगरेट पीने जैसा है?

इमेज कॉपीरइट BBC Future

हाल में विश्व स्वास्थ्य ने प्रोसेस्ड मीट के बारे में ये चेतावनी जारी की कि उससे स्वास्थ्य को वैसा ही ख़तरा है जैसा सिगरेट पीने से.

प्रोसेस्ड मीट वो मांस है जिसे ज़्यादा समय तक ताज़ा रखने के लिए रसायन, प्रीजरवेटिव के साथ मिलाकर रखा जाता है.

भोजन जीवन के लिए जरूरी है. लेकिन कौन सा भोजन बेहतर है और कौन सा नहीं, इसके लेकर हर साल राय बदलती रहती है.

टीवी पर प्रोग्राम करने वाली शेफ़ नाइजेला लॉसन ने हाल में कहा है, "आप ये बात गारंटी से कह सकते हैं कि जो भोजन इस साल सेहत के लिए अच्छा माना जाएगा, वह अगले साल ही अच्छा नहीं माना जाएगा."

किस भोजन का आपके स्वास्थ्य पर क्या असर होता है, इसको लेकर अलग अलग स्वास्थ्य अध्ययन होते रहते हैं और उनके आधार पर ही खाने पीने के चीज़ों में बदलाव की बात भी होती है.

जब मीडिया या फिर हेल्थ गुरु इन अध्ययनों के बारे में बिना सटीक संदर्भों के जानकारी को प्रसारित करते हैं तो इससे लोगों में ग़ैर ज़रूरी भय पैदा होता है.

सुअर का मांस

भय - प्रोसेस्ड मीट सिगरेट जितना ही ख़तरनाक होता है.

वास्तविकता क्या है - विश्व स्वास्थ्य संगठन की घोषणा के मुताबिक सुअर का मांस ही नहीं, दूसरे प्रोसेस्ड मीट के सेवन से भी कोलोरेक्टल (गुदा) कैंसर होने का ख़तरा है लेकिन वास्तविक ख़तरा उतना भी नहीं है जितना कि मीडिया की हेडलाइन से जाहिर होता है.

इमेज कॉपीरइट Wendy Flickr CC BYND 2.0

ब्रिटेन में हुई कैंसर रिसर्च की बातें एक ब्लॉग में प्रकाशित हुई हैं. कोलोरेक्टल कैंसर वैसे ही बहुत कम लोगों को होता है. अगर कोई कभी कभार मांस खाते हैं तो आपके जीवन में ऐसे कैंसर होने की आशंका 5.6 फ़ीसदी होती है. अगर कोई सुअर का मांस खाता है तो यह आशंका बढ़कर 6.6 फ़ीसदी हो जाती है.

यानी सुअर का मांस खाना बंद करने से 100 में से केवल एक आदमी कैंसर की आशंका से बच सकता है. लेकिन अगर तंबाकू पीना छोड़ दिया जाए तो प्रति सौ में 10 से 15 लोगों का जीवन बच सकता है, और इसीलिए दोनों के बीच सीधी तुलना नहीं हो सकती.

ब्रिटिश सरकार की सलाह के मुताबिक 70 ग्राम सुअर का मांस रोजाना खाने से स्वास्थ्य को नुकसान नहीं पहुंचता.

यह ग्रानोला के एक बाउल जितना ही बेहतर है.

अंडा

डर - अंडा खाने से हर्ट अटैक हो सकता है.

वास्तविकता - अंडों के बारे में ये माना जाता रहा है कि ये इससे आपकी धमनियों में कॉलेस्ट्रॉल का स्तर बढ़ता है और इससे हृदय संबंधी बीमारियों का ख़तरा बढ़ता है.

इन दावों में कुछ तो सच्चाई हो सकती है लेकिन अंडा खाना ख़तरनाक नहीं है. एक सप्ताह में सात अंडे खाने से कोई ख़तरा नहीं होता.

इमेज कॉपीरइट Getty

पेट फूलने और कब्ज़ की शिकायत का ख़तरा भले बढ़ता हो लेकिन अंडा खाना प्रोटीन का सुरक्षित और अहम स्रोत है.

अंग्रेज़ी में मूल लेख यहाँ पढ़ें जो बीबीसी फ़्यूचर पर उपलब्ध है.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार