बक्सों में बंद हुआ म्यांमार का भविष्य

इमेज कॉपीरइट EPA

म्यांमार में 25 साल बाद अपेक्षाकृत स्वतंत्र रूप से हो रहे आम चुनाव में वोटिंग ख़त्म हो गई है.

वोटिंग स्थानीय समय के अनुसार शाम के 4 बजे ख़त्म हो गई.

चुनाव अधिकारी ने समाचार एजेंसी एएफपी को बताया कि शुरुआती अनुमानों की मानें तो देश में 80 प्रतिशत वोटरों ने अपना अधिकार का उपयोग कर वोट डाले हैं.

लोग उत्साह के साथ पोलिंग बूथ पर गए. इन चुनावों में 90 पार्टियों के कुल 6,000 उम्मीदवारों ने अपना भाग्य आज़माया.

इमेज कॉपीरइट Reuters

वोटों की गुनती का काम शुरु हो चुका है लेकिन फिलहाल कई दिनों तक नतीजों के घोषणा की संभावना नहीं है.

2016 की शुरुआत में नाम राष्ट्रपति के नाम की घोषणा होने की उम्मीद है.

इन चुनावों में 664 सीटों की संसद के लिए प्रतिनिधि चुने जाएंगे.

मौजूदा चुनावों में इन सीटों में से 25 प्रतिशत सीटें मिलिटरी प्रतिनिधियों के लिए आरक्षित हैं जिनके लिए वोट नहीं डाले गए हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP

चुनावी दौड़ मे लोकप्रिय नेता आंग सांन सू ची की नेशनल लीग फॉर डेमोक्रेसी शामिल है. सरकार बनाने के लिए इस पार्टी के लिए ज़रूरी होगी कि उसने जितनी सीटों पर चुनाव लड़ा है, उनमें से कम से कम 67 प्रतिशत सीटों पर जीत हासिल करे.

उम्मीद की जा रही है कि इस पार्टी को वोटरों का भारी समर्थन मिलेगा.

लेकिन यदि यह पार्टी सरकार बना भी लेती है तो आंग सांन सू ची राष्ट्रपति नहीं बन सकेंगी.

म्यांमार में 2011 से सेना समर्थित यूनियन सॉलिडेरिटी डेवेलपमेंट पार्टी सत्ता में है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार