बांग्लादेश: युद्ध अपराध में दो को फाँसी

इमेज कॉपीरइट epa

बांग्लादेश में दो विपक्षी नेताओं को युद्ध अपराध के अभियोग में फाँसी दे दी गई है.

सलाहुद्दीन क़ादिर चौधरी और अली अहसान मोहम्मद मुजाहिद पर 1971 में पाकिस्तान के साथ हुए स्वतंत्रता युद्ध के दौरान युद्ध अपराध का आरोप था.

अदालत ने इन दोनों को नरसंहार और बलात्कार का दोषी करार दिया गया था.

इस महीने की शुरूआत में सर्वोच्च अदालत ने इनकी सज़ा को बरकरार रखा था.

बांग्ला देश के गृहमंत्री ने कहा कि दोनों नेताओं की दया याचिकाएं राष्ट्रपति ने ख़ारिज कर दी थीं और उसके तुरंत बाद दोनों को फाँसी दे दी गई.

इमेज कॉपीरइट epa

संसद में एक समय काफी प्रभावशाली नेता रहे चौधरी को हत्या और प्रताड़ना के लिए दोषी ठहराया गया था.

चौधरी छ बार सासंद रह चुके थे और अली मुजाहिद बांग्लादेश की सबसे बड़ी इस्लामिक पार्टी जमात-ए-इस्लामी के बड़े नेताओं में से एक थे.

मुजाहिद को कई बड़े बुद्धिजीवियों की हत्या का दोषी ठहराया गया था.

मानवाधिकार संगठन ह्यूमन राइट्स वॉच ने इन दोनों की फाँसी पर गंभीर चिंता जताई है और कहा है कि इनके मुकदमों की सुनवाई निष्पक्ष नहीं हुई है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार