ब्रितानी नाभिकीय हथियार असुरक्षित थे?

इमेज कॉपीरइट Getty

लेबर पार्टी के पूर्व मंत्री ने बीबीसी को बताया है कि जब तक असुरक्षित जगहों को ठीक नहीं किया गया था, तब तक इसकी गारंटी नहीं थी कि प्रधानमंत्री जब चाहे भरोसेमंद आक्रमक सुरक्षा प्रणाली का इस्तेमाल कर सकें.

यह प्रतिक्रिया ब्रिटेन की नाभिकीय योजना के भविष्य पर होने वाली बहस में सामने आई है.

मगर कन्ज़र्वेटिव पार्टी से जुड़े पूर्व रक्षामंत्री सर मैल्कम रिफ़्किंड ने इससे इन्कार किया है.

सोमवार को इसकी जानकारी मिली कि ब्रिटेन की नाभिकीय प्रणाली 'ट्राइडेंट' के आधुनिकीकरण पर ख़र्च 31 बिलियन पाउंड तक ज़्यादा हो गया था.

इमेज कॉपीरइट

सोमवार को ही प्रधानमंत्री डेविड कैमरन ने हाउस ऑफ़ कॉमन्स में इसकी पुष्टि की कि पनडुब्बियों के नवीनीकरण को लेकर सांसदों से वोटिंग कराई जाएगी. हालांकि वोट देना सांसदों के लिए ज़रूरी नहीं है. इन पनडुब्बियों पर ब्रिटेन के परमाणु मिसाइल मौजूद हैं.

सरकार ने यह भी बताया कि पनडुब्बियां बदलने की शुरुआत 2030 से पहले नहीं होगी.

2006 से 2008 के बीच रक्षामंत्री रहे लॉर्ड ब्राउन ने बीबीसी को बताया कि मंत्री के लिए प्रधानमंत्री को आश्वस्त करने की बाध्यता थी कि ब्रितानी नाभिकीय प्रणाली किसी भी साइबर हमले से सुरक्षित है.

लॉर्ड ब्राउन के मुताबिक़ "अगर वो लोग ऐसा नहीं कर पाते तो इसकी कोई गारंटी नहीं थी कि प्रधानमंत्री जब इसका इस्तेमाल करना चाहते, तब ऐसा कर सकते थे."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार