ऑस्ट्रेलियाः ड्रोन बचाएंगे शार्क से

शार्क बीच इमेज कॉपीरइट AFP

ऑस्ट्रेलिया के न्यू साउथ वेल्स प्रांत में समुद्र तट पर जाने वालों को शार्क के हमले से बचाने के लिए ड्रोन और 'स्मार्ट' ड्रम लाइनों का इस्तेमाल किया जाएगा.

न्यू साउथ वेल्स सरकार के अनुसार इसका परीक्षण राज्य के उत्तरी तट से शुरू किया जाएगा. यहां पिछले 12 महीने में बहुत से हमले हुए हैं.

ऑपरेटरों को ड्रोन तस्वीरें भेजेंगे जो जीपीएस को-ऑर्डिनेट्स की मदद से शार्कों को ढूंढेंगे.

यह क़दम शार्क प्रबंधन रणनीति के तहत उठाए जा रहे हैं जिसमें बैरियर और हेलिकॉप्टरों से निगरानी शामिल है.

न्यू साउथ वेल्स के प्राथमिक उद्योगों के मंत्री निआल ब्लेयर ने एक बयान में कहा, "तैरने वालों और सर्फ़िंग करने वालों के लिए ख़तरा कम करना क़त्तई आसान नहीं है."

उन्होंने कहा, "अपने तटों को सुरक्षित बनाने के लिए दीर्घकालिक हल की तलाश में हम सभी उपलब्ध वैज्ञानिक विकल्पों के परीक्षण के अपने वायदे को पूरा कर रहे हैं, जिसमें नई तकनीकें भी शामिल हैं."

ड्रोनों का परीक्षण कॉफ़्स हार्बर में किया जाएगा और 'स्मार्ट' ड्रम लाइन को बालीना में बिछाया जाएगा. इसी के नज़दीक फ़रवरी में शार्क ने एक सर्फ़र को बुरी तरह घायल कर दिया था. उसकी बाद में मौत हो गई थी.

जैसे ही कोई शार्क कांटे पर झपटेगी, ये ड्रम लाइन अधिकारियों को सूचना दे देती है. पुरानी ड्रम लाइन की समय-समय पर जांच की जाती थी.

इमेज कॉपीरइट AFP PHOTO WSL

ब्लेयर ने कहा कि ये उपाय पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया और क्वींसलैंड में इस्तेमाल होने वाली लाइनों के मुक़ाबले अधिक मानवीय हैं.

राज्य सरकार ने एक 'शार्क समिट' का आयोजन किया जिसमें विशेषज्ञों ने हमले रोकने के कई तरीक़े सुझाए थे. उसके बाद ही ये उपाय सामने आए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार