ऑस्ट्रेलिया: 'मुसलमान तीन गुना ज़्यादा नस्लवाद के शिकार'

इमेज कॉपीरइट AFP

एक सर्वे के मुताबिक़ ऑस्ट्रेलिया में रहने वाले मुसलमानों को राष्ट्रीय औसत के मुकाबले तीन गुना अधिक नस्लवाद झेलना पड़ता है.

सिडनी में हुए सर्वे में 600 मुसलमानों ने हिस्सा लिया जिसमें 57 प्रतिशत लोगों ने कहा कि उन्होंने नस्लवाद का अनुभव किया है.

सर्वे रिपोर्ट के लेखक प्रोफेसर केविन डन का कहना है कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर होने वाली घटनाएं भी मुसलमानों के प्रति भेदभाव को बढ़ावा देती हैं.

हालांकि सर्वे में शामिल 86 प्रतिशत लोगों ने कहा कि ऑस्ट्रेलिया में मुसलमानों और ग़ैर-मुसलमानों के संबंध दोस्ताना हैं.

ये सर्वे वेस्टर्न सि़डनी यूनिवर्सिटी, चार्ल्स स्टर्ट यूनिवर्सिटी और इस्लामिक साइंस एंड रिसर्च एकेडमी नाम की संस्था ने मिल कर कराया था.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption ऑस्ट्रेलिया में मुस्लिम समुदाय बेहद छोटा है जो कुल जनसंख्या का 2.2 प्रतिशत है

सर्वे में हिस्सा लेने वाले लोगों के बीच बेरोज़गारी दर 8.5 प्रतिशत पाई गई जो सिडनी के 3.7 प्रतिशत के औसत से कहीं ज़्यादा है.

सर्वे में शामिल 62 प्रतिशत लोगों ने कहा कि उन्हें कार्यस्थल पर या फिर नौकरी ढूंढते वक्त नस्लवाद का सामना करना पड़ा.

हालांकि भेदभाव होने के बावजूद ज़्यादातर मुसलमानों ने कहा कि उनकी पहचान ऑस्ट्रेलियाई नागरिक के रूप में होती है और वो भी देश से अपनापन महसूस करते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)