मर्दों को चुनौती देता 'ऑल गर्ल्स क्लब'

इमेज कॉपीरइट Michael ODonnell
Image caption फ़ालेन फ़ातिमी नोड की सीईओ हैं

दुनिया भर में इन दिनों स्टार्ट अप की धूम है लेकिन समाज और उद्योग के कई और क्षेत्रों की तरह, दबदबा यहाँ भी पुरुषों का ही है.

विश्वविद्यालयों में इंजीनियरिंग और कंप्यूटर साइंस में पुरुषों के मुक़ाबले महिलाओं की बहुत कम संख्या के कारण तकनीकी और स्टार्ट अप का क्षेत्र 'ब्वायज़ क्लब' जैसा हो गया है.

एडिनबरा यूनिवर्सिटी के दो साल के अध्ययन में पता चला कि इन कोर्सों में दाख़िला लेने वाली महिलाओं की संख्या या उसी स्तर पर अटकी है या गिर रही है. अमरीका में तो 1980 के दशक के मुक़ाबले कंप्यूटर साइंस पढ़ने वाली लड़कियों की संख्या ख़ासी गिरी है.

महिलाओं के बारे में पुराने, रूढ़िवादी विचारों ने स्थिति को और गंभीर बना दिया है.

सिलिकन वैली में वीमेंस स्टार्टअप लैब की संस्थापक एरी होरई बताती हैं कि स्टार्ट अप इकोसिस्टम में ही नहीं, बल्कि अन्य कारोबारी जगत में भी सफलता का मॉडल जैसे पुरुषों के लिए ही बना है.

वह बताती हैं, "सफलता का मॉडल है- काम के ज़्यादा घंटे, नेटवर्किंग के लिए शाम को शराब पीने-पिलाने का दौर, और गॉल्फ़ कोर्स में लंबी बातचीत के दौर से बनता विश्वास का रिश्ता.. महिलाओं को इस मॉडल का नुक़सान होता है क्योंकि वो इन्हें नहीं अपना सकतीं. लिहाज़ा महिलाएं कामयाबी के दूसरा विकल्प अपना रही हैं."

इसीलिए इस क्षेत्र में बदलाव की बयार आ रही है.

इमेज कॉपीरइट Natalia Robert
Image caption फ़ेलेना हेनसन हेरा हब की संस्थापिका हैं

यह संभव हो रहा है 'ऑल गर्ल्स क्लब' के ज़रिए, यानी महिलाओं के वो ग्रुप और कंपनियां जिन्हें महिलाएं चलाती हैं और जिनसे और महिलाओं को इस क्षेत्र में नए अवसर मिल रहे हैं.

फ़ॉर्चून पत्रिका के मुताबिक़ अमरीका में एक अरब डॉलर से ज़्यादा का कारोबार करने वाली यूनिकॉर्न कंपनियों के बोर्डरूम में महज़ 6.2 प्रतिशत डायरेक्टर ही महिलाएं हैं.

बैबसन कॉलेज के एक अध्ययन के मुताबिक़ अमरीकी वेंचर कैपिटल फ़र्म्स में 2014 में महिला साझेदार महज़ छह फ़ीसदी थी. यह संख्या 1999 में 10 फ़ीसदी से गिरी है.

अमरीकी के तकनीकी और स्टार्ट अप हब सिलिकॉन न वैली में तकनीकी स्टार्टअप्स में कार्यकारी पदों पर केवल 11 प्रतिशत ही महिलाएं हैं.

वैसे ये केवल अमरीका की तस्वीर नहीं. 2012 में ऑस्ट्रेलिया में डिलॉइट फ़र्म के एक अध्ययन के मुताबिक़ 1000 तकनीकी स्टार्ट अप में केवल 4.3 प्रतिशत की संस्थापक सदस्य महिलाएं हैं.

इसराइल के सेंट्रल ब्यूरो ऑफ़ स्टैटिस्टिक्स के मुताबिक़ तकनीकी कंपनियों के संस्थापकों में महिलाओं की संख्या 10 फ़ीसदी से कम है.

वैसे वायरा एक्सलरेटर्स के सर्वे के मुताबिक़ लंदन में तकनीकी कंपनियों के प्रमोटरों में 30.3 फ़ीसदी महिलाएं हैं.

तकनीकी स्टार्ट अप और कंपनियों में महिलाओं की भागीदारी बढ़ाने के प्रयास हो रहे हैं. ऐसा जिन संस्थाओं और कंपनियों के ज़रिए हो रहा है, उन्हें 'ऑल गर्ल्स क्लब' कहा जा रहा है.

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

ये वो कंपनियां और स्टार्ट अप हैं जिन्हें महिलाएं शुरू कर रही हैं. इनमें महिलाओं को ज़्यादा काम मिल रहा है. कर्मचारियों को ट्रेनिंग देने के लिए भी महिलाओं को प्राथमिकता दी जा रही है.

हालांकि ऐसा नहीं कि यहां पुरुषों का विरोध है, पर इनमें ऊपर से नीचे तक महिलाओं की भागीदारी तय की जा रही है. महिलाएं भी एक दूसरे को मौक़े देकर और उनके बारे में बताकर इसे आगे बढा रही हैं.

इस तरह का पहला महिलाओं का नेटवर्क (नॉन प्रॉफ़िट प्लेटफ़ॉर्म) स्प्रिंगबोर्ड एंटरप्राइज़ेज़ था. इसके कार्यक्रम 2000 के दशक से अमरीकी शहरों में चल रहे हैं. इनमें 500 से ज़्यादा उद्यमी थे और इन्होंने 6.5 अरब डॉलर जुटाए थे. इसके बाद यही संस्थान ऑस्ट्रेलिया में लॉन्च किया गया.

वीमेंस स्टार्ट अप लैब भी महिलाओं के नेतृत्व वाले वेंचर के लिए काम करती है. होरी के मुताबिक़ इन नेटवर्क्स के उद्देश्य हैं- ज़्यादा से ज़्यादा महिलाओं को शामिल करें, केवल शीर्ष पर पहुंची महिलाओं की ही मदद नहीं..

इमेज कॉपीरइट AP

इस कार्यक्रम में कंपनी की प्रगति के बारे में तैयारी की जाती है और उसे हासिल करने के लिए हरसंभव मदद दी जाती है. संभावित निवेशकों और बिज़नेस मेंटॉर के साथ उनकी मुलाक़ात तय की जाती है.

2004 में जेंडर मेडिसिन में छपे अध्ययन के मुताबिक़ कामकाजी माहौल में महिलाएं आपसी संबंध, सम्मान, समानता और सहयोग को ज्यादा महत्व देती हैं जबकि पुरुष वेतन, पैसा, सुविधाएं और पावर पर ज़्यादा ध्यान देते हैं.

सिंगापुर में ऐसा प्लेटफॉर्म है वूल्फ़ वर्क्स, जिसमें केवल महिलाएं हैं. यह वर्जीनिया वूल्फ़ की 'ए रूम ऑफ़ वन्स ओन' से प्रभावित है और इसकी शुरुआत 2014 में हुई थी.

इसी तरह का एक और प्लेटफॉर्म है 'शी विल शाइन एचक्यू हब.' यह मेलबर्न में है. इसकी शुरुआत 2014 में हुई थी. यह केवल महिलाओं वाले कारोबारी समूह को वर्कशाप मुहैया कराते हैं.

2009 में स्थापित हेरा हब इसी तरह से अमरीका के सैन डियागो से वॉशिंगटन डीसी तक में महिलाओं के साथ काम कर रहा है. यहां पुरुषों पर पाबंदी तो नहीं, लेकिन फेलेना हेनसन ने इसे महिला प्राथमिकताओं को ध्यान में रखते हुए शुरू किया था.

हेनसन मानती हैं कि कामकाजी माहौल ऐसा होना चहिए जिसमें आगे बढ़ने के लिए आपको किसी दूसरे को धक्का देने की जरूरत न हो. हेनसन कहती हैं, "महिलाएं एक दूसरे की मदद करती हैं. वह कहीं ज़्यादा बेहतर ढंग से नेटवर्किंग करने में कामयाब होती हैं."

कई देशों में पहुँच

इमेज कॉपीरइट iStock

हेरा हब अब सऊदी अरब और दूसरी जगहों पर विस्तार की योजना बना रहा है. सऊदी अरब के संभावित साझेदारों ने हेनसन से कहा कि वहां पुरुषों और महिलाओं के बीच सामाजिक अलगाव के चलते महिलाओं के समूह में ही महिलाएं काम कर सकती हैं.

इसराइल के तेल अवीव में वीएमएन इसी तरह का वर्क हब है. मार्च 2015 में उद्यमी ओरेन मेराव ने इसे शुरू किया था. उन्होंने अपने वर्क हब के बारे में कहा, "हम महिला उद्यमियों के पास पहुँच रहे हैं. मैं महिलाओं के शुरू किए गए वेंचर पर ज़्यादा ध्यान दे रही हूं. हमारे वर्क स्पेस में महिलाओं और पुरुषों की भागीदारी 50-50 फ़ीसदी है."

फ़ोलोन फ़ातेमी गूगल में सबसे कम उम्र की महिला कर्मचारी थीं. उन्हें महज 19 साल में गूगल की नौकरी मिली थी. उन्होंने नोड नाम से अपना स्टार्ट अप शुरू किया. इसका उद्देश्य है कि उन महिलाओं को जोड़ा जाए जिन्हें जोड़ने की ज़रूरत है.

फ़ातेमी मानती हैं कि महिलाओं को लेकर होने वाली पहल, लैंगिक मुद्दों पर जागरूकता और महिला उद्यमियों के लिए फंड की व्यवस्था करेगी. हालांकि वे इस दौरान 'अस वर्सेज दैम' यानी पुरुष बनाम महिला की मानसिकता से बचने की सलाह भी देती हैं.

अंग्रेज़ी में मूल लेख यहाँ पढ़ें, जो बीबीसी कैपिटल पर उपलब्ध है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार