'मोदी चाहते थे शरीफ़ से मिलना'

एज़ाज़ चौधरी इमेज कॉपीरइट AFP

पाकिस्तान के विदेश सचिव एज़ाज़ चौधरी ने कहा है कि मोदी और नवाज़ शरीफ़ की मुलाकात पहले से तय नहीं थी.

पूर्व केंद्रीय मंत्री और वरिष्ठ कांग्रेसी नेता आनंद शर्मा ने आरोप लगाया है कि प्रधानमंत्री मोदी की पाकिस्तान यात्रा पूर्वनियोजित थी और मोदी ने देश को इस बारे में अंधेरे में रखा.

आनंद शर्मा ने कहा, "मैं सुषमा के उस दावे को नकारता हूँ जिसमें उन्होंने प्रधानमंत्री के पाकिस्तान जाने के फ़ैसले को स्टेट्समैनशिप कहा था."

उन्होंने कहा, "हमें लगता है कि ये एक पूर्व-नियोजित यात्रा थी ना कि तुरंत लिया गया फ़ैसला."

उधर, पाकिस्तानी विदेश सचिव ने कहा कि मुलाक़ात अचानक ही तय हुई.

उन्होंने मोदी की मुलाक़ात को केवल एक 'गुडविल दौरा' बताया और कहा ''यह बैठक एक ख़ुशगवार माहौल में हुई.''

चौधरी का कहना है कि कि मोदी ने पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ से पाकिस्तान आकर मिलने की इच्छा जताई थी, और उन्हें नवाज़ शरीफ़ की नवासी की शादी के बारे में कोई ख़बर नहीं थी.

इमेज कॉपीरइट EPA

नवाज़ शरीफ़ ने उनकी इच्छा का सम्मान करते हुए दोनों देशों के बीच बातचीत के नए दौर की शुरुआत करने के लिए इसे एक अच्छी शुरुआत माना और उनका पाकिस्तान में स्वागत किया.

चौधरी ने कहा कि पाकिस्तान को उम्मीद है कि दक्षिण एशिया में बड़े मसलों जैसे ग़रीबी से निपटने के लिए दोनों देशों को साथ आना और रिश्तों को मज़बूत करने की ज़रूरत है.

इमेज कॉपीरइट MEA India

चौधरी ने बताया कि मोदी ने नवाज़ शरीफ़ से पेरिस में हुई एक छोटी मुलाकात के दौरान दोनों देशों को राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार और विदेश सचिवों के मिलने की बात पर ज़ोर दिया था जिसके बाद बैंकॉक में दोनों देशों के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारों ने बातचीत की.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार