शस्त्र हिंसा के ख़िलाफ़ एनबीए ख़िलाड़ी

क्रिस पॉल, कार्मेलो एंटनी, स्टीफ़न करी इमेज कॉपीरइट Reuters AP

नेशनल बास्केटबॉल एसोसिएशन (एनबीए) के ख़िलाड़ी अमरीका में शस्त्र हिंसा के ख़िलाफ़ विज्ञापनों में सामने आए हैं. ये विज्ञापन शुक्रवार से क्रिसमस के दिन से दिखाए जा रहे हैं.

पहले विज्ञापन में खिलाड़ी शस्त्र हिंसा के पीड़ित के साथ नज़र आ रहे हैं और अमरीकी लोगों से इसे बंद करने के लिए चल रही मुहिम के समर्थन की अपील कर रहे हैं.

इन विज्ञापनों को एव्रीटाउन फ़ॉर गन सेफ़्टी आंदोलन ने प्रायोजित किया है.

अमरीका में गोलीबारी के कारण शस्त्र हिंसा पर नियंत्रण का मुद्दा सुर्ख़ियों में रहता है लेकिन यह ध्रुवीकरण का विषय बना रहता है.

इमेज कॉपीरइट Getty

इससे पहले, अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने बीबीसी से बातचीत में इस अंदोलन के लिए अपना समर्थन दिया था. उन्होंने कहा था कि देश में बंदूक रखने संबंधी क़ानून में बदलाव न हो पाना उनके कार्यकाल की 'सबसे बड़ी निराशा' है.

उन्होंने ट्वीट कर कहा ''मुझे एनबीए पर गर्व है कि उन्होंने शस्त्र हिंसा के ख़िलाफ़ खड़े होने का फ़ैसला किया, पीड़ितों के लिए संवेदना होना ही काफ़ी नहीं होता, हम सभी के इसके ख़िलाफ़ बोलने से ही बदलाव आएंगे.''

सबसे पहले दिखाए जाने वाले टेलीविज़न विज्ञापन में न तो ''शस्त्र हिंसा'' शब्द का इस्तेमाल किया गया है न ही किसी नीतियों में ख़ास बदलाव की बात की गई है.

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption अमरीका में कईयों ने शस्त्र हिंसा पर रोक लगाने की मांग की है.

इसमें ला क्लिपर्स के क्रिस पॉल और न्यूयॉर्क निक्स के कार्मेलो एंटनी ने अपने निजी राय ही सामने रखी है.

एक और ख़िलाड़ी गोल्डन स्टेट वॉरियर्स के स्टीफ़न करी कहते हैं, ''मैंने गर्मियों में एक तीन साल की बच्ची पर गोली चलने की घटना सुनी. मेरी तीन साल की बच्ची राइली भी उतनी ही उम्र की है.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार