'भारत-पाक सचिव वार्ता से न रखें अधिक उम्मीद'

सरताज अज़ीज़ इमेज कॉपीरइट EPA

पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ के विदेश मामलों के सलाहकार सरताज अज़ीज़ ने कहा है कि भारत और पाकिस्तान के विदेश सचिवों की अगले महीने होने वाली वार्ता से ज़्यादा उम्मीदें नहीं रखनी चाहिए.

अज़ीज़ ने रेडियो पाकिस्तान से बातचीत में ये बात कही. दोनों देशों के बीच शांति की संभावना पर पूछे गए सवाल पर उन्होंने कहा कि सभी मुद्दों के तुरंत समाधान की उम्मीद करना बेमानी होगी.

उन्होंने कहा, "शुरुआत में बातचीत इस बात पर केंद्रित होनी चाहिए कि तनाव कैसे कम किया जाए और नियंत्रण रेखा पर शांति हो ताकि दोनों तरफ़ रहने वाले लोगों को राहत मिले."

अज़ीज़ ने कहा कि जनवरी में होने वाली समग्र वार्ता में कश्मीर सहित सभी मुद्दों पर बात होगी.

हाल के दिनों में भारत और पाकिस्तान के बीच दूरियां मिटती दिख रही हैं. इसकी शुरुआत तब हुई जब पेरिस में भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ से मिले.

इमेज कॉपीरइट AFP

इसके बाद शुक्रवार को अफ़ग़ानिस्तान से लौटते समय प्रधानमंत्री मोदी ने लाहौर पहुंच कर सबको हैरान कर दिया.

अज़ीज़ ने कहा कि लाहौर में दोनों देशों के प्रधानमंत्रियों की बैठक में यह फ़ैसला किया गया कि जनवरी के मध्य में दोनों देशों के विदेश सचिव मिलेंगे और सभी मुद्दों पर वार्ता की रूपरेखा तय करेंगे.

अज़ीज ने कहा कि प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ सभी पड़ोसी देशों के साथ अच्छे रिश्ते चाहते हैं क्योंकि क्षेत्रीय संपर्क कायम करने की परियोजनाओं का लाभ लेने और ऊर्जा संकट से निपटने के लिए यह ज़रूरी है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार