चीन में विवादित आतंकवादरोधी क़ानून पारित

चीन में विवादित एंटी-टेरर कानून पारित इमेज कॉपीरइट AFP

चीन ने विवादित नए आतंकवादरोधी क़ानून को पारित करते हुए कहा है कि आतंकवाद के बढ़ते ख़तरे को देखते हुए ऐसा करना ज़रूरी था.

रविवार को चीनी संसद में पारित नए क़ानून के तहत नई आतंकवादरोधी एजेंसी की स्थापना की गई है. साथ ही सुरक्षाबलों को अहम अधिकार दिए गए हैं.

आलोचकों का कहना है कि क़ानून का दायरा बहुत बड़ा है और इसे असंतुष्टों और अल्पसंख्यकों के ख़िलाफ़ इस्तेमाल किया जा सकता है.

इमेज कॉपीरइट AFP

चीन के शिनजियांग प्रांत के मुस्लिम वीगर अलगाववादियों पर हाल के वर्षों में सार्वजनिक स्थानों पर कई हमले करने का आरोप लगाया है.

पिछले हफ़्ते कई पश्चिमी देशों ने ख़तरे की ख़ुफ़िया सूचनाओं के मद्देनज़र अपने नागरिकों को बीजिंग के पड़ोसी इलाक़े सेन्लिटन न जाने की हिदायत दी थी.

नए क़ानून के तहत चीन के पास आतंकवाद का मुक़ाबला करने के लिए एक आतंकवादरोधी संस्था होगी जो देश में हो रही सभी चरमपंथी गतिविधियों और चरमपंथियों पर नज़र रखेगी और इनके ख़िलाफ़ काम करेगी.

इमेज कॉपीरइट AFP

चीन के सरकारी मीडिया ने 2014 की कुनमिंग रेलवे स्टेशन पर हमले का हवाला देते हुए इस क़ानून की आवश्यकता बताई है. कुनमिंग रेलवे स्टेशन में चाकुओं से हमला कर 29 लोगों की हत्या कर दी गई थी.

इस हमले के लिए ज़िम्मेदार चार हमलावरों को वीगर समूह का बताय गया था.

नए क़ानून के तहत अधिकारियों को निजी संचार पर भी निगरानी रखने का ज़्यादा अधिकार होगा. हालांकि सरकार ने साफ़ किया है कि दूसरे देशों की तरह ही ये व्यक्तिगत आज़ादी का उल्लंघन नहीं करेगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार