'ब्रितानी जासूसों' के क़त्ल का वीडियो जारी

इस्लामिक स्टेट का वीडियो इमेज कॉपीरइट Video EI

इस्लामिक स्टेट ने एक वीडियो जारी किया है जिसमें एक पुरुष और एक नाबालिग ब्रितानी ज़बान बोलते हुए पाँच लोगों का क़त्ल करते हुए दिख रहे हैं.

इस्लामिक स्टेट का कहना है कि मारे गए लोग ब्रिटेन के लिए जासूसी कर रहे थे.

दस मिनट के इस वीडियो में ब्रिटेन में हमले की चेतावनी देते हुए इसे प्रधानमंत्री डेविड कैमरन के लिए संदेश बताया गया है.

वीडियो के अंत में एक लड़का दिख रहा है जो 'काफ़िरों' के क़त्ल की बात कर रहा है.

इस वीडियो की स्वतंत्र रूप से पुष्टि नहीं की जा सकी है.

ब्रितानी विदेश मंत्रालय का कहना है कि वह वीडियो की जाँच कर रहा है.

जंपसूट पहने पाँचों लोगों को एक रेगिस्तान में सिर में गोली मारे जाते हुए दिखाया गया है. गोली मारे जाने से पहले उनके 'इक़बालिया ज़ुर्म' रिकॉर्ड किए गए हैं.

हालांकि बीबीसी के मध्यपूर्व के संपादक एलन जॉन्सटन का कहना है कि मारे गए लोग बेहद दबाव में बयान देते प्रतीत हो रहे हैं और संभवतः वो पूरी तरह निर्दोष भी हो सकते हैं.

एक व्यक्ति अपने बयान में कह रहा है कि उससे दो ब्रितानी चरमपंथियों समेत इस्लामिक स्टेट के ठिकानों के बारे में जानकारी देने के लिए कहा गया था.

मारे गए पांचों लोगों में से कुछ सीरिया के रक़्क़ा के हैं जबकि एक व्यक्ति ने ख़ुद को लीबिया के बेनगाज़ी से बताया है. इनमें से कोई भी ब्रितानी नागरिक नहीं है.

हत्याओं के बाद सेना जैसी पोशाक़ पहने एक छह-सात साल का एक बच्चा उंगली दिखाता दिख रहा है.

इस्लामिक स्टेट अपने प्रोपेगेंडा वीडियो में बच्चों का इस्तेमाल करता रहा है.

इस्लामिक स्टेट इससे पहले भी कई बार क़त्ल के वीडियो जारी कर चुका है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार